केजरीवाल की 'शराब नीति' के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग, बोले- ठेके खुले तो नहीं मिलेंगे वोट

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में शराब के नए ठेके खोले जाने को लेकर हर इलाके में विरोध देखने को मिल रहा है. इलाके के लोग अपनी कॉलोनियों में शराब के ठेके खोले जाने से खफा नज़र आ रहे हैं. लोगों का कहना है कि जिस तरीके से शराब के ठेके उनके इलाकों में खोले जा रहे हैं, आने वाले समय में वह इसका विरोध करते हुए AAP को वोट नहीं देंगे.

बता दें कि 17 नवंबर से दिल्ली में नई आबकारी नीति लागू हो चुकी है. नई आबकारी नीति लागू होने के साथ दिल्ली में तमाम सरकारी शराब की दुकानों पर ताला लग चुका हैं. अब नए सिरे से 849 नई शराब की दुकानें खोलने की योजना है, जिसको लेकर दिल्ली की RWA और कॉलोनियों के लोग सरकार के खिलाफ निरंतर इलाकों में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. दिल्ली हो या फिर नॉर्थ ईस्ट या फिर साउथ दिल्ली की पॉश कॉलोनियां, सभी इलाकों में जिस तरीके से नई शराब की दुकानें खोली जा रही हैं, उसको लेकर लोग सड़कों पर उतर आए हैं. उत्तर पूर्वी दिल्ली के बाबरपुर विधानसभा के पास खोला जाने वाला शराब का ठेका, यहां आने वाले लोगों के लिए मुसीबत बनता जा रहा है.

इलाके में रहने वाले कपिल मोहन शर्मा ने कहा है कि बाबरपुर विधानसभा में जो शराब का ठेका गोंडा चौक पर खोला जा रहा है, वहां पास ही में सरकारी स्कूल है, जिसमें 10 हजार से अधिक बच्चे पढ़ते हैं, उन पर क्या असर पड़ेगा. इस संबंध में न तो इलाके के MLA सोच रहे हैं, न ही मंत्री.

छत्तीसगढ़ CM भूपेश बघेल का बड़ा फैसला, एक ही झटके में पेट्रोल-डीजल पर इतना घटा दिया VAT

गृह मंत्रालय के सामने TMC सांसदों का धरना, अमित शाह ने मुलाकात के लिए नहीं दिया समय

धार्मिक यात्रा के बहाने वसुंधरा राजे का शक्ति प्रदर्शन, राजस्थान में बढ़ी भाजपा की टेंशन

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -