दिल्ली में राजमार्ग निर्माण के लिए काटे जा सकता है 5100 से अधिक पेड़

नई दिल्ली: पूर्वी और उत्तर-पूर्वी दिल्ली में छह लेन के राजमार्ग के निर्माण के लिए 14 हेक्टेयर से अधिक वन भूमि में फैले 5,104 पेड़ों को काटकर फिर से लगाने का प्रस्ताव है। अधिकारियों के अनुसार भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने दिल्ली-सहारनपुर राजमार्ग के छह लेन के 14.75 किलोमीटर के हिस्से के विकास के लिए दिल्ली वन विभाग से अनुमति मांगी है।

वन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अक्षरधाम राष्ट्रीय राजमार्ग-9 जंक्शन और दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा के बीच इस खंड पर कुल 5,104 पेड़ हैं। इन वृक्ष प्रजातियों में शीशम, शहतूत, पीपल, चंपा, अशोक, सुबाबुल, नीम, यूकेलिप्टस, कीकर, बेर, जामुन और गूलर शामिल हैं। “पिछले महीने एक निरीक्षण किया गया था। उपयोगकर्ता एजेंसी ने गणना के दौरान कुछ पेड़ों को छोड़ दिया था और अब उन्हें उन पेड़ों पर भी विचार करने के लिए कहा गया है।”

अधिकारी ने बताया कि एनएचएआई ने अब तक प्रतिपूरक वनरोपण के लिए जमीन उपलब्ध नहीं कराई है। लगभग 1500 करोड़ रुपये मूल्य की यह परियोजना भारतमाला परियोजना के पहले चरण का हिस्सा है, जो देश में दूसरा सबसे बड़ा राजमार्ग निर्माण कार्यक्रम है। इसके तहत 50 हजार किलोमीटर सड़कों का निर्माण किया जाएगा। केंद्रीय एजेंसी ने एनएच-148 डीएनडी महारानी बाग से जैतपुर-पुस्ता सड़क खंड तक 6 लेन राजमार्ग निर्माण के लिए 0.35 हेक्टेयर वन भूमि की अनुमति मांगी है. निर्माण कार्य के दौरान बेरी, नीम, पीपल, शहतूत और सिरस सहित कुल 191 पेड़ों को स्थानांतरित करने का प्रस्ताव है।

उर्वरक घोटाला: राजस्थान CM गहलोत के भाई अग्रसेन को ED का समन, आज होगी पूछताछ

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रिमंडल का किया विस्तार, 7 नए चेहरों को किया शामिल

दिल्ली: जामिया नगर में स्थित मंदिर को हटाने की कोशिश, दिल्ली हाई कोर्ट में पहुंचा मामला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -