एनटीएजीआई ने कहा- "वैज्ञानिक साक्ष्य के आधार पर कोविशील्ड खुराक के बीच..."

एनटीएजीआई ने कहा-

नई दिल्ली: टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) के भारत के कोविड-19 कार्यकारी समूह के अध्यक्ष, डॉ एनके अरोड़ा ने भारत के कोविड-19 टीकाकरण अभियान पर बात की। एनटीएजीआई के अध्यक्ष एन.के. ने कहा कि दो कोविशील्ड खुराक के बीच के अंतर को 4-6 सप्ताह से बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने का निर्णय एडिनोवेक्टर टीकों के व्यवहार के संबंध में वैज्ञानिक कारणों पर आधारित है। "यह वह आधार था जिसके आधार पर उन्होंने अल्फा संस्करण के कारण अपने महामारी के प्रकोप पर काबू पाया। यूके इससे बाहर आने में सक्षम था क्योंकि उन्होंने जो अंतराल रखा था वह 12 सप्ताह था," डॉक्टर ने कहा कि जब सरकार ने वृद्धि की घोषणा की तो सवाल उठाए गए थे।

"हमने यह भी सोचा कि यह एक अच्छा विचार है, क्योंकि यह दिखाने के लिए मौलिक वैज्ञानिक कारण हैं कि जब अंतराल बढ़ाया जाता है, तो एडेनोवेक्टर टीके बेहतर प्रतिक्रिया देते हैं। इसलिए 13 मई को अंतराल को बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने का निर्णय लिया गया। यह समुदाय को लचीलापन भी देता है, क्योंकि हर कोई ठीक 12 सप्ताह में नहीं आ सकता है।

"इस मुद्दे पर एनटीएजीआई की बैठक में बिना किसी असहमति के फिर से चर्चा की गई। सिफारिश की गई थी कि टीका अंतराल 12-16 सप्ताह होना चाहिए।" अरोड़ा ने कहा कि चार सप्ताह का पहला निर्णय उस समय उपलब्ध ब्रिजिंग परीक्षण डेटा पर आधारित था और दो खुराक के बीच अंतर में वृद्धि उन अध्ययनों पर आधारित थी जो अंतराल में वृद्धि के साथ उच्च प्रभावकारिता दिखाते थे।

राम मंदिर जमीन विवाद पर बोली प्रियंका गांधी- करोड़ों लोगों ने आस्था और भक्ति से प्रेरित होकर दिया चढ़ावा...

दिल्ली में एक बार फिर पड़ सकती है गर्मी की मार, मानसून के लिए करना पड़ सकता है लम्बा इंतज़ार

लगान के 20 साल पुरे होने पर आमिर खान ने शेयर किया वीडियो, नया लुक देख फैंस हुए शॉक्ड