राम मंदिर जमीन विवाद पर बोली प्रियंका गांधी- करोड़ों लोगों ने आस्था और भक्ति से प्रेरित होकर दिया चढ़ावा...

नई दिल्ली: बीते कुछ समय से कोरोना हो या कोई और अन्य मामला हर मुद्दे पर सियासी गर्माहट काफी बढ़ गई है इस बीच राम जन्मभूमि ट्रस्ट पर राम मंदिर के लिए भूमि खरीदने में भ्रष्टाचार तथा घोटाले का आरोप लगा है जिसके पश्चात् से विपक्षी दल हमलावर हो गये हैं। राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने फेसबुक पोस्ट लिखी है। उन्होंने लिखा खबरों के मुताबिक, श्री राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट द्वारा एक भूमि की खरीददारी में फर्जीवाड़ा हुआ है। अयोध्या की एक भूमि को 18 मार्च 2021 को दो लोग 2 करोड़ रुपए में क्रय करते हैं।

वही ये भूमि मंदिर निर्माण के लिए नहीं है, बल्कि मंदिर परिसर से दूर है। 2 करोड़ की यह भूमि केवल 5 मिनट के पश्चात् प्रधानमंत्री जी द्वारा बनाए गए श्री राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट की तरफ से 18.5 करोड़ रु में खरीद ली गई। मतलब जमीन के दाम 5.5 लाख रु प्रति सेकंड की दर से बढ़ गई। क्या इस पर कोई भरोसा कर सकता है? मत भूलिए, यह सारा पैसा हिंदुस्तान के नागरिकों द्वारा मंदिर निर्माण के दान तथा चढ़ावे के रूप में दिया गया था।

जमीन की खरीद-बिक्री से जुड़े बैनामे तथा रजिस्ट्री में गवाहों के नाम एक समान हैं। एक गवाह मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी हैं (जो RSS के पूर्व प्रांतीय कार्यवाहक रहे हैं) तथा दूसरे गवाह भाजपा नेता तथा अयोध्या के मेयर हैं। श्री राम मंदिर ट्रस्ट के सचिव की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि भूमि के दाम बढ़ गए हैं इसलिए इतना भुगतान हुआ है। उन्होंने आगे लिखा तहरीर के मुताबिक सर्किल रेट पर भी आंकलन करें तो इस इलाके की इतनी जमीन की कीमत तकरीबन 5 करोड़ रुपए होगी। कल के अखबारों में आई खबरों के मुताबिक भी राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत श्री नृत्य गोपाल दास जी की तरफ से भी ट्रस्ट के संचालन में मनमानेपन व अपारदर्शिता का आरोप लगाया गया है और रामलला के मुख्य पुजारी जी ने भी इस भूमि खरीद की जांच की मांग की है।

आर सेल्वम चुने गए पुडुचेरी विधानसभा के अध्यक्ष

अमेरिका समेत अन्य राज्यों में लॉक डाउन खुलने से बढ़ा मौत का आंकड़ा

सीएम योगी ने राहुल गांधी से क्यों कहा- अपने जीवन में कभी सत्य नहीं बोला ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -