मैचों के दौरान ऐसे बातें होती है मैदान पर

हाल ही में एक खबर से ज्ञात हुआ की टीम के धुरन्धर बल्लेबाज़ धोनी टीम के युवा खिलाड़ियों को 'छोटे' कहकर पुकारते हैं. अपने एक इंटरव्यू में चहल ने कहा, "धोनी भाई तक पहुंचा जा सकता है. मुझे मालूम है, उन्होंने कप्तानी छोड़ दी है, लेकिन हम सभी जानते हैं कि वही हमेशा टीम के कप्तान रहेंगे. वह मुझे 'छोटे' कहकर पुकारते हैं."

धोनी द्वारा समझाए जाने वाले कुछ पलों को याद करते हुए चहल ने बताया, "उन्हें मालूम है, बल्लेबाज़ के दिमाग को कैसे पढ़ना है. मुझे नहीं मालूम, वह ऐसा कैसे कर पाते हैं, लेकिन यह बेहद शानदार है. वह मुझे बुलाते हैं, और कहते हैं, "छोटे, इसको बाहर डाल, या स्ट्रेट डाल." मैं वही करता हूं, और नतीजा मिल जाता है. वह बेहद शानदार व्यक्ति हैं." सीरीज़ के दौरान धोनी को चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव से कहते सुना गया था - "वो मारने वाला डाल ना. अंदर या बाहर कोई भी." इसके अलावा चहल और कुलदीप को धोनी लगातार कहते रहे - "घूमने वाला डाल, घूमने वाला."
चहल से भी मैच के दौरान धोनी ने कहा था, "तू भी नहीं सुनता है क्या...? ऐसे... ऐसे डालो..." क्रिकेट फील्ड पर अपने अनूठे तरीकों के लिए मशहूर महेंद्र सिंह धोनी ने विकेटकीपिंग करते हुए ही अपनी टिप्स से कई स्पिनरों को मांझा है. रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन इसके बेहतरीन उदाहरण हैं.
 
धोनी की ही कप्तानी में टीम इंडिया ने वर्ष 2007 में दक्षिण अफ्रीका में हुआ पहला टी-20 वर्ल्ड कप, वर्ष 2011 में भारत में खेला गया वन-डे वर्ल्ड कप, और फिर 2013 में इंग्लैंड में खेली गई चैम्पियन्स ट्रॉफी जीते थे. महेंद्र सिंह धोनी ने 199 वन-डे इंटरनेशनल मैचों में भारतीय टीम की कप्तानी की है, जिनमें से 110 में जीत हासिल हुई, और 74 में टीम को हार का सामना करना पड़ा.

न्यूज़ ट्रैक पर हम आपके लिए लाये है ताज़ा खेल समाचार आपके पसंदीदा खिलाडी के बारे में

जब धोनी ने किया 'चीकू' को गाइड

बेटी के जन्म पर नहीं दी थी साक्षी ने धोनी को खबर

अब धोनी चलेगा बीरबल की चाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -