पाकिस्तान में गृहयुद्ध जैसे हालात, इमरान की पुलिस से भिड़े TLP कार्यकर्ता.. 4 की मौत, 253 घायल

इस्लामाबाद: पाकिस्‍तान में प्रतिबंधित कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्‍बैक (TLP) और इमरान खान सरकार के बीच टकराव थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। पाकिस्‍तान के कई शहरों में TLP के हिंसक प्रदर्शनों से हालात बेहद बदतर हो गए हैं। पंजाब प्रांत के सीएम उस्‍मान बुजदर के अनुसार, TLP की गोलीबारी में कम से कम 4 पुलिसकर्मियों की जान चली गई है और 253 अन्‍य लोग जख्मी हो गए हैं।

उन्होंने आगे कहा कि हिंसा में संलिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। कुछ मीडिया रिपोर्ट में 263 के जख्मी होने की खबर है। तनावपूर्ण हालात के बीच पंजाब प्रांत में अगले 60 दिनों के लिए पाकिस्‍तानी सेना की तैनाती कर दी गई है। जानकारी के अनुसार, बरेलवी समुदाय से संबंध रखने वाला यह कट्टरपंथी संगठन इस्‍लामाबाद को घेरने के लिए निकला है। बताया जा रहा है कि फायरिंग की यह घटना पंजाब प्रांत के गुजरांवाला जिले में बुधवार (अक्टूबर 27, 2021) को हुई। TLP समर्थकों ने पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा है। 

बताया जा रहा है कि घायलों में 70 पुलिसकर्मी शामिल हैं, जिसमें से 8 लोगों की हालत नाजुक है। पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत के एक पुलिस के प्रवक्‍ता ने बताया कि TLP के सदस्‍य पुलिसकर्मियों पर हमले के लिए मशीनगन, एके-47 राइफल और पिस्‍तौल का उपयोग कर रहे हैं। उन्‍होंने बताया कि इसी कारण पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है। दरअसल, कट्टरपंथी संगठन TLP दो माँगों को लेकर सड़क पर उतरा हुआ है। पहली माँग TLP के चीफ साद रिजवी को जेल से रिहा करने की है, वहीं दूसरी माँग फ्रांस के राजदूत को इस्लामाबाद से वापस फ्रांस भेजने की है। इमरान सरकार पहली माँग मानने के लिए राजी हो गई है, किन्तु दूसरी माँग मानने से मना कर दिया है। प्रतिबंधित TLP के 10,000 से ज्यादा समर्थक बीते तीन दिनों से जीटी रोड पर मुरीदके और गुजरांवाला के बीच डेरा डाले हुए थे। 

लेबनान की संसद ने की 27 मार्च को संसदीय चुनाव कराने की पुष्टि

T20 World Cup: ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के सामने श्रीलंकाई स्पिनर्स की चुनौती, जानिए प्लेइंग 11

रूस में फिर जिंदगियां निगलने लगा कोरोना, पिछले 24 घंटों में हुईं रिकॉर्ड मौतें, प्रतिबन्ध लागू

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -