ट्यूशन फीस के अलावा और कुछ नहीं ले सकते स्कूल, 10वीं-12वीं को लेकर की ये घोषणा

कोरोना की रोकथाम के लिए लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाया गया है. लेकिन कुछ-कुछ इलाकों में रियायते दी जाएंगी. वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को लॉकडाउन के दौरान स्कूलों के फीस लेने और 10वीं-12वीं की परीक्षाओं को लेकर स्थिति साफ कर दी है. अपने बयान में सीएम ने कहा है कि सभी निजी स्कूल लॉकडाउन के दौरान सिर्फ ट्यूशन फीस ले सकेंगे. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान स्कूलों की तरफ से किसी भी तरह का कोई भी अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा.

आगे उन्होंने कहा कि 19 मार्च 2020 यानी कि लॉकडाउन शुरू होने की तारीख से लेकर लॉकडाउन खत्म होने तक की अवधि के बीच कोई भी निजी स्कूल बच्चों से केवल ट्यूशन फीस ले सकेगा, इसके अलावा अतिरिक्त कोई भी अन्य शुल्क नहीं लिया जाएगा.

वहीं, 10वीं के बचे पेपर नहीं होंगे. सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं की जिन विषयों की परीक्षा रह गई थी, अब वह पेपर नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि 10वीं की जिन विषयों की परीक्षा हो गई है, उनके अंकों के आधार पर परीक्षा परिणाम तैयार होगा. वहीं, जो पेपर नहीं हुए हैं उनके आगे अब पास लिखा जाएगा.  बता दें की सीएम शिवराज ने यह भी कहा कि 12वीं की परीक्षा के जो भी पेपर बाकी रह गए हैं, उनकी परीक्षाएं होंगी. इस बारें में उन्होंने बताया कि 12वीं के बचे हुए पेपर की परीक्षाएं 8 जून से 16 जून के बीच होंगी.

मध्यप्रदेश में दर्दनाक हादसा, पति-पत्नी सहित चार लोगों को ट्रक ने रौंदा

कचरे के ढेर में चार घंटे की बच्ची को छोड़ भागे माता-पिता, राहगीरों ने बचाया ऐसे

लॉकडाउन का असर दिखा प्रकृति पर, नजर आने लगी 45 किमी दूर देवास की पवन चक्कियां

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -