लॉकडाउन का असर दिखा प्रकृति पर, नजर आने लगी 45 किमी दूर देवास की पवन चक्कियां

देश में लॉकडाउन की वजह से प्रदूषण का स्तर निचे आ गया है. जो की प्रकृति के लिए अच्छा है. वहीं, मध्य प्रदेश के इंदौर में लॉकडाउन के कारण प्रदूषण के स्तर में लगातार कमी से पर्यावरण बेहतर होता जा रहा है. आम दिनों की तुलना में दृश्यता में इतना इजाफा हो गया है कि एमआर-10 ब्रिज से देवास के आगे पहाड़ी पर लगी पवन चक्कियां तक दिखाई देने लगी हैं. यूं सामान्यतः सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र उद्योगों के धुएं और वाहनों की लगातार आवाजाही की वजह से दृश्यता काफी कम रहती है. लॉकडाउन के वजह से शहर में वाहनों का उपयोग तो बंद है.

हालांकि, सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र में अधिकांश उद्योग भी बंद हैं. इससे प्रदूषण में काफी कमी आई और दृश्यता बढ़ गई है. शहर के एमआर 10 ब्रिज से देवास के आगे भोपाल रोड पर खटांबा और जामगोद के मध्य स्थित पवन चक्कियां नजर आने लगी हैं.

बता दें की शहर से इस क्षेत्र की दूरी 45 किमी से भी अधिक है. फिर भी इतनी दूर का नजारा दिखने लगा है. इस बारें में प्रदूषण बोर्ड के मुख्य प्रयोगशाला अधिकारी डॉ. डीके वागेला ने बताया कि गर्मियों में आम दिनों की तुलना में दृश्यता बढ़ जाती है. आप सामान्य आंखों से 8 से 10 किलोमीटर दूर तक देख सकते हैं जबकि ठंड और बारिश में दृश्यता कम हो जाती है. ठंड में तो कई बार यह 50 मीटर तक ही रह जाती है. इस कारण विमान भी डायवर्ट करना पड़ते हैं. फिलहाल लॉकडाउन की वजह से प्रदूषण स्तर न्यूनतम है, इससे दृश्यता और बेहतर हुई है. ऐसा रहा है लॉकडाउन का हाल 25 मार्च से लॉकडाउन शुरू होने के बाद एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 2 बार 50 से नीचे और 5 बार 100 से नीचे रहा है.

रेलवे स्टेशन पर करवाई मजदुर महिला की डिलीवरी, प्रसूता ने बच्ची को दिया डॉक्टर का नाम

जबलपुर में 175 हुई संक्रमितों की संख्या, 8 ने गवाई जान

अब ऐसे भर सकेंगे बिजली का बिल, कंपनी ने की व्यवस्था

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -