रमज़ान : दान-पुण्य से सफल हो जाते हैं रोज़े

रमज़ान का पाक महीना इन दिनों सबसे ज्यादा सुर्ख़ियों में हैं इस महीने को सबसे अहम मानकर इस महीने में कुछ बुरा नहीं किया जाता. यह महीना मुसलमानों के लिए सबसे ख़ास होता है क्योंकि इस महीने में वह अल्लाह के अलावा और किसी को याद नहीं करते हैं और उनके लिए जो कुछ भी होते हैं अल्लाह ही होते हैं. कहते हैं कि रमज़ान का महीना उन लोगों के लिए सबसे ज्यादा फलित होता है जो दान-पुण्य करते हैं. जी हाँ, जो मुसलमान दान-पुण्य करते हैं उनके लिए यह महीना सबसे अच्छा और सबसे सफल होता है उनकी सभी दुआओं को रब के द्वारा कबूल कर लिया जाता है.

यह महीना मुसलमानो के लिए उतना ही ख़ास होता है जितना के हिन्दुओं के लिए नवरात्र या महाशिवरात्रि. इस महीने में मुसलमान ज्यादा से ज्यादा दान देते हैं ताकि उनकी मुरादें अल्लाह कबूल कर लें और इस महीने की सबसे ख़ास बात ही यह है कि इस महीने में मुसलमानो कि साड़ी मुरादें कबूल कर ली जाती हैं और उन्हें वह सब मिल जाता है जो वो चाहते हैं. रमज़ान का महीना बहुत ख़ास होता है इस महीने में लड़ाई और झगड़ें से मुसलमान खासकर दूर रहते हैं और ना ही वह किसी प्रकार का नशा करते हैं. इस महीने केवल अल्लाह के लिए इबादत की जाती हैं और दान-पुण्य दिया जाता है.

रमज़ान के लिए बेहतरीन ग़ज़ल

रमजान : दांत से खून आने पर टूट जाता है रोज़ा

रमज़ान 2018 : क्या मेकअप करने से टूट जाता है रोज़ा?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -