रमज़ान 2018 : क्या मेकअप करने से टूट जाता है रोज़ा?

रमज़ान का महीना जिसे इस्लाम धर्म का सबसे ज्यादा पवित्र महीना माना जाता है. रमज़ान में मुस्लिम धर्म के लोग एक महीने तक रोज़ा रखते है. वे लोग बिना कुछ खाए-पिए दिनभर बिताकर गरीब लोगों का दर्द और उनकी तड़प को महसूस करते है. रोज़ा करने वाले लोग खुद को झूठ, बुराई, बुरा सुनना, बुरा कहना हर तरह की अन्य सभी बुराइयों से बचाकर रखते हैं. यदि ये बुरा व्यक्ति के पास आ गई तो वो रोज़ा तोड़ने पर मजबूर कर देती हैं. या फिर यदि रोज़ा रखने वाला व्यक्ति ऐसी बुराइयों की चपेट में आ जाता हैं तो उसके रोज़ा रखने का कोई महत्त्व नहीं होता हैं. लेकिन आज हम आपको एक और ऐसे काम के बारे में बता रहे हैं जिसके कारण भी रोज़ा टूट सकता हैं. इस काम के बारे में सुनकर शायद आप भी हैरान हो जाएंगे. ये काम हैं महिलाओ का मेकअप जिसके कारण भी रोज़ा टूट सकता हैं.

जी हाँ... भले ही सुनकर आप भी हैरान हो गए हो लेकिन ये सच हैं. एक सवाल पूछा गया कि- क्या मेकअप से रोज़ा टूट जाता है? इस सवाल के साथ ये भी पूछा गया था कि- लिपस्टिक लगाने से रोज़ा टूट जाता है या इस से सिर्फ रोज़ा मकरूह (नापसन्दीदाह) होता है? दुबई में इस्लामी उमूर और चैरिटी गतिविधियों के विभाग के मुफ़्ती आज़म ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि, सजने-संवारने की किसी भी प्रकार से रोज़ा नहीं टूट सकता हैं क्योकि ऐसी चीज़े सिर्फ शरीर के बाहर ही होती हैं वो अंदर नहीं जाती हैं.

मालेगाव के मौलाना अजमल मंज़ूर मदनी से भी जब ये ही सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि, सजने-संवारने के सभी उत्पादों के उपयोग से सिर्फ रमजान के दिनों में ही नहीं बल्कि पुरे समय ही बचना चाहिए. लेकिन रमज़ान के दिनों में तो ऐसे उत्पादों से खासतौर से सावधानी बरतनी चाहिए. उनके कहने का मतलब था कि ऐसे उत्पादों में संदेह पाए जा सकते हैं इसलिए उन्होंने रोज़े के समय इन उत्पादों से दुरी बनाकर रहना ही सही माना हैं.

रमज़ान 2018 : आखिर क्यों खजूर से ही खोला जाता है रोज़ा? जानिए

सहरी के लिए ढोल बजाकर मुसलमानों को जगाता है यह सिख बुजुर्ग

रमजान के पाक माह में 'अल्लाह हु अकबर' के नारों के बीच बेल्जियम में आतंकी हमला

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -