गौतस्करी मामले में बुरे फंसे TMC नेता अणुव्रत मंडल, कई पुलिसकर्मी भी CBI की रडार पर

कोलकाता: कोयला तस्करी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) पहले ही पश्चिम बंगाल के 8 उच्च पुलिस अधिकारियों को दिल्ली तलब कर चुका है। अब गौ तस्करी के मामले में बीरभूम के कई पुलिसकर्मी CBI के रडार पर भी आ गए हैं। इस सिलसिले में अनुब्रत मंडल के बॉडीगार्ड सहगल हुसैन को पहले ही अरेस्ट किया जा चुका है। इस बार अनुब्रत मंडल के एक और करीबी पुलिसकर्मी का नाम सामने आया है। CBI सूत्रों के अनुसार, वह पुलिसकर्मी बीरभूम जिला पुलिस हेडक्वार्टर में कार्यरत है। 

दरअसल, CBI को शक है कि गाय तस्करी की तस्करी में पुलिस के एक हिस्से की बड़ी भूमिका है। इस आधार पर कुछ पुलिसकर्मियों को तलब किया जा सकता है। CBI सूत्रों के अनुसार, अनुब्रत के बीरभूम जिला पुलिस हेडक्वार्टर में काम करने वाले पुलिसकर्मी के साथ घनिष्ठ संबंध हैं। आरोप है कि कुछ पुलिस कर्मी मुख्य तौर पर इसी नजदीकी की वजह से गौ तस्करी में शामिल थे। सहगल की अकूत संपत्ति के सबूत भी जांच एजेंसी को मिले हैं। सहगल और माधव नामक एक अन्य पुलिसकर्मी के बयान भी CBI के पास हैं। हालांकि, 26 अप्रैल को इलामबाजार में एक हादसे में माधव की जान चली गई थी।

सूत्रों के अनुसार, जांचकर्ता अनुब्रत मंडल से गौ तस्करी को लेकर उस बयान के आधार पर सवाल-जवाब कर रहे हैं। सूत्रों का दावा है कि अनुब्रत विभिन्न सूचनाओं के सामने ‘असहाय’ नज़र आ रहे हैं। भले ही वह शुरू में चुप हैं। CBI अधिकारी का कहना है कि अनुब्रत मंडल पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं। CBI इस संबंध में जानकारी जुटा रही है कि अनुब्रत मंडल का गो तस्करी का नेटवर्क किस तरह काम करता था।

रामनगरी में कूड़ा उठाने वाली गाड़ी से बांटे गए राष्ट्रध्वज, देखकर भड़के अखिलेश यादव

'जिन्ना के DNA वाले मुसलमान हैं ओवैसी..', एक बयान देकर घिरे AIMIM चीफ

'जब डरना छोड़ देंगे तब होगा अखंड भारत...', RSS प्रमुख ने दिया बड़ा बयान

 

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -