स्कैल्प पर हो रहे पैचेज तो हो जाएं सावधान, ये हो सकती है बीमारी

स्कैल्प पर हो रहे पैचेज तो हो जाएं सावधान, ये हो सकती है बीमारी

आज अधिकतर लोग बाल झड़ने की समस्या से परेशान हैं. मानसून सीजन में बाल कुछ ज्यादा ही गिरने लगते हैं. लेकिन कई बार बाल इतने टूटते-गिरते हैं कि गंजे होने की नौबत आ जाती है. ये एक बीमारी का संकेत हो सकता है जिसके बारे में आपको नहीं पता होगा. अगर आपके साथ ऐसा होता है और स्कैल्प पर जगह-जगह छोटे-छोटे पैचेज बन रहे हैं, तो फिर आप सावधान हो जाएं. यह पुरुषों और महिलाओं में गंजेपन यानी एलोपेसिया एरेटा (Alopecia areata) की समस्या हो सकती है जो जल्दी समझ में नहीं आते. जानते है इसके बारे में. 

एलोपेसिया एरेटा के कारण 
जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि एलोपेसिया एरेटा एक ऑटोइम्यून संबंधित बीमारी है. जब सफेद रक्त कोशिकाएं हेयर फॉलिकल की कोशिकाओं पर हमला करती हैं और उन्हें सिकोड़कर बालों के निर्माण को धीमा कर देती हैं, तो यह समस्या शुरू होती है. इसके अलावा निम्न कारणों से भी आपको एलोपेसिया की समस्या हो सकती है-

1 आनुवांशिक कारण.
2 मेनोपॉज, प्रेग्नेंसी और थायरॉइड की समस्या होने पर हार्मोन में बदलाव होने से यह समस्या होती है.
3 सिर की त्वचा में संक्रमण और रिंगवर्म होना.
4 कैंसर, अर्थराइटिस, हृदय रोग, गाउट और उच्च रक्तचाप की दवाओं के साइड इफेक्ट्स.
5 अलग-अलग हेयर स्टाइल बनाने और हॉट हेयर ऑयल ट्रीटमेंट लेने से भी यह समस्या होती है.
6 वजन घटने के कारण.
7 अधिक तनाव एवं डिप्रेशन.
8 उम्र बढ़ना.
9 डायबिटीज की दवाओं के सेवन के कारण भी यह समस्या हो सकती है.

लक्षण क्या हैं 
* सिर के बालों का जगह-जगह से झड़ना.
* सिर में जगह-जगह सिक्के के आकार में बाल पूरी तरह साफ होना और गंजापन दिखना.
* शरीर के अंगों और चेहरे के बालों का झड़ना.
* सिर के बालों का अधिक टूटना.
* दाढ़ी और पलकों के बाल टूटना.
* सिर में सफेद स्पॉट और लाइन दिखाई देना.
* नाखून टूटना और नाखून की चमक खत्म होना.
* नाखून पतले होकर टूटने लगना.
* बाल झड़ने से पहले सिर में खुजली और जलन होना.

इलाज के तरीके
इसका इलाज संभव है. इसका इलाज व्यक्ति-व्यक्ति पर निर्भर करता है, क्योंकि कुछ लोगों के बाल बिना इलाज के दोबारा उग आते हैं, जबकि कुछ लोगों के बाल विकसित करने के लिए दवाओं की जरूरत पड़ती है. वैकल्पिक थेरेपी (alternative therapy) के जरिए इसका उपचार संभव है. कुछ मुख्य थेरेपी जैसे एक्यूपंक्चर, अरोमाथेरेपी, हर्बल सप्लिमेंट्स और विटामिन जैसी थेरेपी अपनाकर बालों को टूटने से बचाया जा सकता है. ये सभी प्रभावी तरीके से काम करती हैं. 

ये आदतें आपको बना देती है समय से पहले बूढ़ा, जानें

घरेलु तरीके आपके कान की खुजली करेंगे दूर

इन चीज़ों को खाने के बाद कभी ना करें दूध का सेवन, बन जायेगा जहर