बाजार पर दिखेगा बिहार चुनाव का असर

नई दिल्ली : हाल ही में चालू वित्त वर्ष 2015 में उच्चतम तेजी देखी गई है और अब यह सामने आ रहा है कि इस तेजी को वापस पाने के लिए वर्ष की दूसरी तिमाही का इंतजार किया जा रहा है. इस बारे में बात करते हुए सिट्रस एडवाइजर्स के फाउंडर संजय सिन्हा ने खुद ये जानकारी दी है. संजय ने यह भी कहा है कि इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही हालाँकि इतनी अच्छी रहने की भी उम्मीदें कुछ कम ही है लेकिन फिर भी यह कहा जा रहा है कि इसकी गति तेज साबित हो सकती है.

इसलिए बाजार को आगे बढ़ाये जाने को लेकर हमें अगली तिमाही का इंतजार करना होगा.साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि वित्त वर्ष 2016 में तीसरी तिमाही के दौरान अच्छे नतीजे सामने आ सकते है और इनके कारण बाजार में भी तेजी आने की उम्मीद है. मतलब जनवरी में आने वाले नतीजों के अनुसार दिसम्बर में अच्छा रुख देखने को मिल सकता है.

उन्होंने अनुमान लगते हुए यह भी कहा है कि यदि फेडरल रिज़र्व के द्वारा अक्टूबर माह में दरें नहीं बढ़ाई जाती है तो दिसम्बर माह तक वह जरूर इन दरों को बढ़ा सकता है. वैश्विक बाजारों के साथ ही इसका भारतीय बाजार पर भी हल्का असर देखने को मिल सकता है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों का भी बाजार पर असर देखने को मिलेगा. उन्होंने यह अनुमान भी जताया है कि यदि बिहार चुनाव का परिणाम अनुकूल नहीं आता है तो इससे भी बाजार में परिणाम अच्छे नहीं देखे जाने की उम्मीदे है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -