यहाँ जानिए भालचन्द्र संकष्टी चतुर्थी का महत्व और पूजा विधि

यहाँ जानिए भालचन्द्र संकष्टी चतुर्थी का महत्व और पूजा विधि
Share:

हिंदू पंचाग के अनुसार 21 मार्च को भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी है। आप सभी को बता दें कि चैत्र माह की कृष्ण पक्ष को पड़ने वाली चतुर्थी को भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। जी हाँ और चतुर्थी तिथि भगवान गणेश (Lord Ganesha) को समर्पित मानी जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश की पूजा-अर्चना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है और विघ्नहर्ता लोगों के सारे कष्ट हर लेते हैं। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी व्रत का महत्व और पूजा विधि। 

भालचन्द्र संकष्टी चतुर्थी का महत्व- हिंदू धर्म में भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी व्रत को सभी व्रतों में श्रेष्ठ माना गया है। जी हाँ और आप तो जानते ही होंगे कि भगवान गणेश को सर्वप्रथम पूजनीय देव माना गया है। यही वजह है कि हर शुभ कार्य से पहले गणेश जी की पूजा की जाती है। वहीं गणेश जी को विघ्नहर्ता कहा जाता है। कहते हैं व्रत करने और सच्चे मन से उनकी अराधना करने से भक्तों की सभी बाधाएं दूर होती हैं। वहीं धार्मिक मान्यता को माने तो भगवान गणेश की पूजा-अर्चना से यश, धन, वैभव और अच्छी सेहत की प्राप्ति होती है। जी हाँ और इस दिन पूरा दिन उपवास रखा जाता है और चंद्र दर्शन के बाद ही व्रत खोला जाता है। ऐसा करने से भगवान प्रसन्न होते हैं और भक्तों को शुभ फल देते हैं।

भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी व्रत की पूजा विधि- भालचंद्र संकष्टी चतुर्थी व्रत के दिन सुबह उठकर नित्य कर्म और स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लें और गणेश भगवान की पूजा-अर्चना करें। अब उसके बाद उन्हें तिल, गुड़, लड्डू, दुर्वा, चंदन और मोदक अर्पित करें। इसी के साथ ही पूजा खत्म होने के बाद गणेश जी की आरती जरूर पढ़ें। अब इसके बाद पूरा दिन व्रत रखें और रात में चांद निकलने से पहले गणेश भगवान की फिर से पूजा करें और चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद अपना व्रत खोलें और प्रसाद ग्रहण करें।

21 मार्च को भालचन्द्र संकष्टी चतुर्थी, जानिए शुभ मुहूर्त

सूरत: टॉयलेट की दीवार पर बना रखी थी भगवान गणेश की पेंटिंग, म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की हरकत

विनायक चतुर्थी के दिन जरूर करें गणेशा चालीसा का पाठ

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -