जानिए मुरली विजय ने किस तरह अपने जीवन में हासिल की महानता 

जानिए मुरली विजय ने किस तरह अपने जीवन में हासिल की महानता 

भारतीय टीम के जाने माने बल्लेबाज़ मुरली विजय को तो आप सभी जानते ही होंगे, वह हमेशा ही अपने शानदार प्रदर्शन के चलते चर्चाओं में बने रहते है. वहीं आज बल्लेबाज़ मुरली विजय अपना जन्मदिन मना रहें है. मुरली विजय का जन्म 1 अप्रैल 1984 एक भारतीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं, जो दाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज के रूप में खेलते हैं. यह भारतीय टेस्ट टीम के एक नियमित खिलाड़ी है. इसके अलावा प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तमिलनाडु और इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स का भी प्रतिनिधित्व करता है.

17 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू करने के बाद, विजय ने तमिलनाडु अंडर - 22 टीम में चुने जाने से पहले चेन्नई में क्लब क्रिकेट खेला है. वह जल्दी ही आगे बढ़े और 2006 में तमिलनाडु सीनियर टीम के लिए प्रथम श्रेणी में प्रवेश किया. वह 2006-0 7के रणजी ट्रॉफी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों में से एक थे, जो उनका पहला प्रथम श्रेणी टूर्नामेंट था. अक्टूबर 2007 तक, उन्होंने दक्षिण क्षेत्र, इंडिया रेड और इंडिया ए का प्रतिनिधित्व किया.

मुरली विजय को नवंबर 2007 में, उन्हें सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को आईसीसी द्वारा एक मैच के लिए प्रतिबंधित किए जाने के बाद अपना टेस्ट क्रिकेट में पहला मैच खेला.

LOCKDOWN: घर पर बैठे बैठे यह खिलाड़ी हुआ परेशान  

वसीम अकरम बोले, सहवाग नहीं, इस पाकिस्तानी बल्लेबाज़ ने बदली टेस्ट में ओपनिंग बैटिंग की स्टाइल

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए बढ़ाया हाथ