केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली में विकास की रफ़्तार होगी तेज

केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली में विकास की रफ़्तार होगी तेज

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने दिल्ली में विकास की रफ़्तार को तेज करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली सरकार ने अपने विधायकों को उनके छेत्र के विकास के लिए मिलने वाली राशि को 4 करोड़ रुपये सालाना से बढ़ा कर 10 करोड़ रुपये सालाना कर दिया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली विधानसभा की  कैबिनेट की बैठक के दौरान सभी विधायकों ने मांग की थी कि विकास निधि को बढ़ाया जाये। 

मैं चाहता हूँ केजरीवाल देश के पीएम बनें- मनीष सिसोदिया

सिसोदिया ने यह भी बताया कि कैबिनेट ने दिल्ली में कई भारतीय भाषाओं जैसे कश्मीरी, तेलुगु, मलयालम, गुजराती समेत अन्य भाषाओं की अकादमी के अलावा विदेशी भाषा अकादमी स्थापित करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है।  सिसोदिया के मुताबिक यह जनता के पैसे और कामकाज के विकेन्द्रीकरण का एक बड़ा उदाहरण है।  दिल्ली सरकार पहली सरकार है जो निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए अलग-अलग दलों के विधायकों के साथ मिलकर काम कर रही है। 

गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों से केजरीवाल सरकार दिल्ली में विकास की रफ़्तार बढ़ने के लिए कई प्रयास कर रही है। अब देखना ये होगा की सरकार द्वारा विकास के लिए विधायकों को मिलने वाली ये राशि क्या वाकई विकास लाएगी या फिर भ्रष्टाचार के हत्थे चढ़ जाएगी। 

ख़बरें और भी 

तेजस्वी यादव के मंच से बीजेपी और जदयू के खिलाफ भड़के राहुल गाँधी और अरविन्द केजरीवाल

जंतर-मंतर पर धरना या विपक्ष का शक्ति प्रदर्शन

मोदी के सहारे केजरीवाल ने PM पर साधा निशाना, कहा- यह देश के साथ गद्दारी

?