अरुणाचल प्रदेश में भड़की विद्रोह की आग, पथराव में 24 पुलिसकर्मी घायल

ईटानगर: स्थाई निवास प्रमाण पत्र (PRC)के मामले पर अरुणाचल प्रदेश में भयंकर आक्रोश है। कई आदिवासी संगठनों ने विरोध प्रदर्शन के  दौरान उपद्रव किया है। इस हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। अधिकारियों द्वारा इंटरनेट सेवाओं को बंद करने और प्रतिबंधात्मक आदेश जारी करने के बाद भी अरुणाचल प्रदेश में हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं।

यहां मिलेगी हर माह 55 हजार रु सैलरी, National Institute of Technology Trichy में करें अप्लाई

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अरुणाचल प्रदेश में पुलिस की फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत पर शोक जाहिर किया है और आशा की है कि प्रदेश में शांति लौट आएगी। इसी बीच सरकार ने ईटानगर में स्थिति को काबू करने के लिए आईटीबीपी की 6 कंपनियां भेजी हैं। एहतियात के तौर पर प्रदेश की राजधानी ईटानगर में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। सेना को बुलाया गया है और उसने नाहरलागुन और ईटानगर के बीच फ्लैग मार्च निकाला। प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार शाम को करीब 50 वाहनों को जला दिया और 100 अन्य को क्षति पहुंचाई। पुलिस ने कहा है कि उपद्रवियों ने पुलिस पर पथराव किया है। इसमें 24 पुलिसकर्मियों समेत 35 नागरिक घायल हो गए हैं।

सैलरी 44 हजार रु, Bhubaneswar में निकली नौकरियां

दरअसल, 6 आदिवासी समुदायों को स्थायी निवासी प्रमाण पत्र देने के प्रस्ताव के विरोध में बुलाए गए बंद के दौरान राज्य के कुछ इलाकों में लोग सड़क पर उतर आए और जमकर विरोध किया है। प्रदर्शनकारियों ने गैर-अरुणाचलियों को स्थायी निवास प्रमाण पत्र (पीआरसी) प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा नियुक्त पैनल की सिफारिशों में बदलाव की मांग करते हुए ईटानगर में सिविल सचिवालय में प्रवेश का प्रयास किया था।

खबरें और भी:-

कश्मीरी छात्रों पर हो रहे हमले को लेकर नेशनल कांफ्रेंस का विरोध प्रदर्शन, केंद्र पर लगाए आरोप

खाद्य तेलों में गिरावट के साथ गुड़ और गेहूं के दाम भी घटे

समाप्त सप्ताह में विदेशी पूंजी भंडार 1.50 अरब डॉलर बढ़कर 398.27 अरब डॉलर हुआ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -