अपने अभिनय से अनुपम श्याम ने फ़िल्मी जगत में बनाई अलग पहचान

अपने अभिनय से अनुपम श्याम ने फ़िल्मी जगत में बनाई अलग पहचान

भारतीय अभिनेता अनुपम श्याम आज अपना जन्मदिन मना रहे है जो कि मुख्यतः बॉलीवुड की फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाते हैं। प्रतापगढ़ से स्कूली शिक्षा के पश्चात् अवध विश्वविद्यालय से स्नातक करने और फिर लखनऊ के भारतेन्दु नाट्य अकादमी से थियेटर की पढ़ाई करने वाले अनुपम श्याम ने दिल्ली के श्रीराम सेन्टर रंगमंडल में काम किया, जिसके पश्चात् वह राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के रंगमंडल में लंबे वक़्त तक काम किया।

अनुपम श्याम ने कई बड़ी राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय फिल्मों में भी काम किया, जिसकी शुरुआत उन्होंने अंतरराष्ट्रीय फिल्म ‘द लिटिल बुद्धा’ से की। उसी दौरान उन्होंने चर्चित निर्देशक शेखर कपूर की फिल्म ‘बैंडिट क्वीन’ साइन की जिसमें उनका किरदार बाबा घनश्याम का था। उन्होंने एक फ्रेंच फिल्म ‘जया गंगा’ भी की। ऑस्कर विजेता फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ में उन्होंने एक अहम चरित्र निभाया था, जो भीख मंगवाने के लिए बच्चों को अंधा बनाया करता है।

अनुपम ने एक और विदेशी फिल्म ‘द वारियर’ भी की जिसके मुख्य किरदार में प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान हैं। चर्चित अभिनेता रौशन सेठ के साथ उन्होंने निर्देशक महेश मथाये निर्देशित ब्रिटिश फिल्म ‘थ्रेड’ में काम किया, जिसमें उनका किरदार एक ऋषि मुनि का है जिसे दर्शकों की भरपूर सराहना मिली। अनुपम श्याम ने ‘शक्ति’, ‘हल्ला बोल’ और ‘रक्तचरित’ जैसी चर्चित फिल्में भी कीं। हल्ला बोल में उनके सह अभिनेताओं में प्रसिद्ध अभिनेता पंकज कपूर शामिल हैं। अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के साथ उन्होंने एक फिल्म ‘परजानिया’ की जिसकी कहानी दंगे पर आधारित है। उन्होंने अभिनेता यशपाल के साथ हाल में एक फिल्म ‘दास कैपिटल’ की जो अभी फिल्म समारोहों में दिखायी जा रही है। इसी के साथ अनुपम श्याम ने अपने जीवन में कई उपलब्धियां हासिल की है।

सुशांत केस: ड्रग्स मामले में अरेस्ट हुआ ABCD मूवी का कोरियोग्राफर, पूछताछ जारी

बड़े परदे पर दिखेगी 'सुशांत' की मौत की कहानी, इस प्रोडक्शन हाउस ने किया फिल्म बनाने का ऐलान

ड्रग्स केस को लेकर विक्रम भट्ट ने कही ये बात