एक झपकी के लिए हज़ारों रूपए उड़ा रहे यहां के लोग

एक झपकी के लिए हज़ारों रूपए उड़ा रहे यहां के लोग

नींद पाने के लिए लोग कुछ भी कर सकते हैं, और करें भी क्यों ना आखिर नींद का सवाल है. इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोग एक पल ढूंढते हैं ताकि वो चैन से सो सके. लेकिन उन्हें चेन की नींद नसीब नहीं होती तो एक झपकी के लिए ही सीओ हज़ारों रूपए खर्च कर रहे हैं. जी हाना, ऐसा ही कुछ हम आपको बताने जा रहे हैं जिस पर आपको भी यकीन नहीं होगा. भला एक झपकी के हज़ारों रूपए कौन देता है. आपको ऐसा करना हो तो क्या आप करेंगे, यानी एक नींद के हज़ार रूपए देंगे ?

कहाँ है स्टोर :

दरअसल, हम बात कर रहे हैं अमेरिका के न्यूयोर्क की जहां पर एक 'नैप स्टोर' खुला है जिसका नाम 'कैस्पर' जहां पर लोग अपनी थकान मिटाने आते हैं. इस जगह पर लोग अपनी इस भाग दौड़ भरी ज़िंदगी से हटकर चेन की नींद लेने आते हैं चाहे नींद कुछ ही देर की क्यों ना हो. अगर चेन की नींद मिल रही है तो लोग हज़ारों रूपए देने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं. ऐसा ही कुछ हो रहा है न्यूयोर्क के इस कैस्पर नैप स्टोर में. अगर आप भी ऐसा कुछ महसूस करना चाहते हैं तो अमेरिका चल जाइये.

लेते हैं 25 डॉलर : 

अगर आपको यहां सो कर चेन की नींद लेने है तो आपको यहां के लिए 25 डॉलर देने होंगे. जी हाँ, 25 डॉलर यानी करीब 2000 रूपए और 2 हज़ार रूपए में आप केवल यहां पर 45 मिनट की नींद ले ले सकते हैं. इतने में ही आपकी नींद पूरी हो जाएगी. फोटोज में आप देख सकते हैं कि कैस्पर के बेड कैसे डिज़ाइन किये गए हैं जिसे देखकर लगता है कि ये आपको सुलाने के लिए बुला रहे हों.

कैसा है माहौल : 

इसकी छत खुले आस्मान की तरह है जिसमें आपको टिमटिमाते तारे भी दिखाई देंगे. हर तरह की सुविधा मिलेगी आपको यहां पर. यहां 9 केबिन्स हैं जिसमें मखमली गद्दे हैं जो आपको नींद में काफी मदद करेंगे. एक टीवी भी है जो आपके माहौल और भी सुलाने वाला बना देगी. इस नैप स्टोर में गद्दे बनाने वाली कंपनी की मार्केटिंग का हिस्सा है.

क्यों बनाया नैप स्टोर : 

कैस्पर के सह संस्थापक नील पारीख ने बताया कि वो एक ऐसी जगह बनाना चाहते थे जहां पर आकर लोग थोड़ी देर सुस्ता लें. लाल आँखों वाले लोग आते हैं जो दिखाई देते हैं काफी थके हुए हैं लेकिन कुछ ऐसे भी आते हैं जो पैसे देकर सोकर जाते हैं और फोटोज को सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं और जानकारी देते हैं. ये अनुभव उनके लिए बेहद अलग होता है.

यह भी पढ़ें..

टीचर्स डे पर जानिए जापान के स्कूल में बच्चों को कैसा दिया जाता है लंच

टीचर्स डे : शिक्षक आपके जीवन को बना भी सकता है और बिगाड़ भी सकता है

चलती गाड़ी में कर रही थी मेकअप और ऐसा मेकअप हुआ कि..

4 साल के बच्चे को टॉयलेट पॉट में दिखा सांप, घर से निकले और भी

 

?