अक्टूबर को 'हिन्दू विरासत माह' के रूप में मना रहा अमेरिका, जानिए क्या है वजह

वाशिंगटन: अमेरिका की जनता अक्टूबर को ‘हिंदू विरासत माह’ के तौर पर मना रही हैं। हिन्दू समुदाय के नेताओं ने सोमवार (25 अक्टूबर 2021) को इस संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया है कि देश के 50 में से 20 से ज्यादा राज्यों और 40 से ज्यादा शहरों ने इसके बारे में कई ऐलान किए हैं। अमेरिका में हिंदू संगठनों की इस पहल का निर्वाचित प्रतिनिधियों ने स्वागत किया है। उन्होंने अपने देश में इस अल्पसंख्यक समुदाय के योगदान को पहचानने के लिए घोषणाएँ और अधिसूचनाएँ जारी की हैं।

दरअसल, पूरे विश्व में हिंदू अक्टूबर माह के आस-पास अपने पर्व नवरात्रि और दीपावली मनाते हैं। इसलिए, इस माह को अमेरिका स्थित कई हिंदू संगठनों ने ‘हिंदू विरासत माह’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। एक मीडिया विज्ञप्ति में कहा गया है कि, 'योग से लेकर भोजन तक, उत्सव से लेकर परमार्थ तक, नृत्य से लेकर संगीत तक और अहिंसा से लेकर गहन दर्शन तक हिंदुओं के इन तौर-तरीकों ने अमेरिका में सभी के जीवन पर सकारात्मक असर डाला है।' अमेरिका के जिन राज्यों ने ‘हिंदू विरासत माह’ के लिए अधिसूचना जारी की है, उनमें टेक्सास, ओहायो, मैसाचुसेट्स, वर्जीनिया, न्यू जर्सी, नेवादा, मिसिसिपी,  जॉर्जिया, फ्लोरिडा, मिनेसोटा, डेलावेयर, उत्तरी कैरोलिना, पेंसिल्वेनिया, मैरीलैंड, विस्कॉन्सिन, न्यू हैम्पशायर, कनेक्टिकट, मिसौरी, इंडियाना और मिशिगन का नाम शामिल हैं।

मिशिगन में ट्रॉय, कैलिफोर्निया में इरविन, ओरेगन में पोर्टलैंड और टेक्सास में इरविंग और ह्यूस्टन अक्टूबर को हिंदू विरासत माह के तौर पर मान्यता देने वाले कुछ शहर हैं। विज्ञप्ति में आगे कहा गया है कि पूरे देश में अमेरिकी नेताओं के लिए प्राचीन हिंदू पद्धति का योगदान और अमेरिकी समाज में हिंदुओं की सक्रिय भूमिका प्रशंसा योग्य है।

इजराइल ने मोरक्को को दी दस साल की यात्रा रद्द की चेतावनी

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने फिल्मकारों को दी ये अहम नसीहत

ससुर रजनीकांत के साथ धनुष ने शेयर की तस्वीर, लिखी खास बात

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -