इस शक्तिपीठ पर मां सती के साथ भगवान शिव को भी पूजा जाता है

शोणदेश शक्ति पीठ मध्य प्रदेश के अमरकंटक में स्थित है। यह माँ सती के 52 शक्तिपीठों में से एक है। यहां माँ सती की मूर्ति को ‘नर्मदा’ और भगवान शिव को ‘भद्रसेन’ के रूप में पूजा जाता है। यह नर्मदा नदी का उद्गम स्थल भी है और मंदिर परिसर में नर्मदा उदगाम मंदिर भी शामिल है। शोणदेश की मुख्य कथा शक्ति पीठों के निर्माण से संबंधित है। प्रजापति दक्ष की पुत्री सती का विवाह उनकी इच्छा के विरुद्ध भगवान शिव से हुआ था। दक्ष ने एक बड़े यज्ञ की व्यवस्था की लेकिन सती और शिव को आमंत्रित नहीं किया। बिन बुलाए, सती यज्ञ-स्थल पर पहुंच गईं, जहां दक्ष ने सती के साथ-साथ शिव जी की भी उपेक्षा की।

माता सती इस अपमान को सहन नहीं कर पाईं और अपने पिता राजा दक्ष द्वारा आयोजित हवन की अग्नि में समा गई। जब भगवान शिव उनके जलते शरीर को लेकर ब्रह्मांड के चारों ओर घूमके तांडव कर रहे थे, तो भगवान विष्णु ने उन्हें शांत करने के लिये अपने सुदर्शन चक्र का उपयोग करके उनके शरीर को 52 भागों में विभाजित किया। उन 52 अंगों में से सती का ‘दाहिना नितंब’ (कुल्हा) इस स्थान पर गिरा था। यहां सती को ‘नर्मदा’ और भगवान शिव को ‘भद्रसेन’ कहा जाता है।

देवी नर्मदा की मूर्ति मंदिर के केंद्र में स्थित है और स्वर्ण “मुकुट” से ढकी हुई है। देवी नर्मदा का मंच चांदी से बनाया गया है। देवी नर्मदा के दोनों किनारों पर अन्य देवी-देवताओं के प्रतीक भी स्थित हैं। शोणदेश शक्ति पीठ मंदिर की भीतरी वेदी अद्भुत है। केंद्र में देवी नर्मदा की एक मूर्ति है जिस पर सुनहरा ‘मुकुट’ चढ़ाया गया है। दोनों ओर से मात्र दो मीटर की दूरी पर विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियों को सजाया जाता है। जिस चबूतरे पर माँ नर्मदा की मूर्ति है, वह चांदी से बनी है। कला और स्थापत्य कला की बात करें तो शोणदेश शक्ति पीठ का निर्माण बेहद शानदार ढंग से किया गया है। सफेद चट्टानों वाले मंदिर के चारों ओर तालाब हैं जो इसे एक आदर्श दृश्य बनाते हैं। सोन नदी और पास के कुंड के अद्भुत दृश्य के साथ जगह की सुंदरता कई गुना है। इन क्षेत्रों को पर्यटकों द्वारा उपेक्षित नहीं किया जा सकता है। सबसे आश्चर्यजनक दृश्य राज्य के इस हिस्से में विंध्य और सतपुड़ा जैसी 2 पहाड़ी श्रृंखलाओं का संयोजन है।

मंदिर इतने आकर्षक स्थान पर स्थापित है कि पास के कुंड से आने वाली सोन नदी के अद्भुत दृश्य का आनंद लगातार लिया जा सकता है। सतपुड़ा पर्वतमाला और लहराती घाटियों के सचित्र दृश्य देखने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है। इस खूबसूरत जगह से उगते सूरज को भी देखा जा सकता है और मंदिर तक पहुंचने के लिए चढ़ाई करने के लिए लगभग 100 सीढिया हैं। एक ओर चीज जो इस जगह को ओर अधिक मनमोहक बनाती है वह है नर्मदा नदी का प्रवाह।

मध्यप्रदेश के इस शक्तिपीठ के दर्शन मात्र से दूर होते हैं सारे कष्ट

नवरात्रि: नेत्रों का है विकार तो जरूर करें नैनादेवी मंदिर के दर्शन

दशहरा: रावण क्यों बना राक्षस, जानिए पूर्व जन्म में क्या श्राप दिया था ऋषि ने?

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -