लखीमपुर हिंसा: अखिलेश यादव ने चला चुनावी दांव, कही किसानों को करोड़ों रुपए देने की बात

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को पूछताछ के लिए समन भेजना महज औपचारिकता है और निष्पक्ष जांच के लिए मंत्री को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. अखिलेश लखीमपुर हिंसा में मारे गए दो किसानों के परिवारों से मुलाकात करने के लिए बहराइच रवाना हुए. बहराइच जाने से पहले शुक्रवार को अपने आवास के बाहर मीडिया कर्मियों से बातचीत की.

इस बातचीत में अखिलेश ने कहा कि ‘अजय मिश्रा के बेटे को समन भेजना एक औपचारिकता है. सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद सरकार जागी है. मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. नहीं तो उनसे पूछताछ करने वाले अफसर को पहले उन्हें सलाम करना होगा और फिर सवाल पूछना होगा और जाने से पहले उन्हें वापस सलाम करना होगा.’ आशीष मिश्रा के नेपाल भागने की खबरों के बारे में पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा कि उन्हें इस संबंध में जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि, ‘यदि यह सच है, तो केंद्र सरकार को दखल देना चाहिए और आरोपी को नेपाल से अरेस्ट करवाना चाहिए.’ उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार अपने नेताओं द्वारा किए गए अपराधों को छिपाती है और पार्टी में ‘गुलदस्ते’ देकर उनका स्वागत करती है.

अखिलेश ने योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘वीडियो और सबूत आ रहे हैं और प्रत्यक्षदर्शी यह बता रहे हैं कि कृषकों के ऊपर गाड़ी चढ़ाने के पीछे मंत्री का बेटा था. यह ‘दमदार’ सरकार, जैसा कि इसके इश्तेहारों में दावा किया गया है, सिर्फ ‘ताकतवार’ लोगो के लिए है.’ उन्होंने कहा कि यदि सपा सत्ता में आती है तो सरकार किसानों को करोड़ों रुपये की सहायता देगी. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के पास कृषक परिवारों के लिए दो करोड़ रुपये नहीं हैं.

'मैंने हवाई जहाज उड़ाया है, नाम के आगे कैप्टन लगता है..', लालू के बेटे तेजप्रताप का बड़बोला बयान

बंगाल भाजपा को एक और झटका, TMC में शामिल हुए सब्यसाची दत्ता

तेलंगाना विधानसभा ने जाति जनगणना की मांग वाला प्रस्ताव किया पारित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -