माँ के दूध को तरसती बच्ची, कोर्ट पहुंची

नई दिल्ली: माँ, संसार की पहली गुरु, अपनी संतान के लिए मृत्यु से भी लड़ जाने वाली, जिसे भगवन से भी ऊपर का दर्जा प्राप्त है. जो अपनी संतान को 9 महीने तो गर्भ में रखती ही है और उसके बाद भी अपने दूध से उसका पोषण करती है, लेकिन दिल्ली की इस माँ ने अपनी ही 4 माह की बच्ची को दूध पिलाने से इंकार कर दिया और उसे छोड़कर चली गई. माँ के चले जाने के बाद, बदहवास पिता अपनी 4 माह की बच्ची को लेकर दर-दर भटक रहा है, जिससे वो अपनी पत्नी को स्तनपान के जरिये बच्ची को दवा पिलाने के लिए मना सके, लेकिन उसे पता ही नहीं है कि उसकी पत्नी कहाँ हैं.

दरअसल, जब बच्ची 2 महीने की थी, तभी उसकी माँ उसे छोड़ कर चली गई थी, जिसके बाद से बच्ची का पिता, अपनी बेटी को बचने के लिए लगातार अपनी पत्नी की खोज कर रहा है. अब थक हारकर उसने अदालत का दरवाजा खटखटाया है, उसने दिल्ली हाई कोर्ट में एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर करके अपनी लापता पत्नी का पता लगाने की मांग की है. महिला हाई कोर्ट में पेश हुई लेकिन उसने अपने पति के साथ आने या बच्ची को दवा देने के लिए उसकी देखभाल तीन महीने के लिए लेने से भी इनकार कर दिया.

महिला ने अदालत को बताया कि उसे उन दवाओं से एलर्जी है जो बच्ची को स्तनपान के जरिये दी जानी है, इसलिए वह वे दवाएं नहीं ले सकती. अदालत ने महिला के इस बयान के आधार पर मामला निरस्त कर दिया. लेकिन एक माँ की इस तरह की पत्थरदिली पर बच्ची के पिता को बहुत क्रोध आया और उसने अपनी पत्नी के खिलाफ बच्चे को छोड़ने के लिए दंडात्मक कार्रवाई की मांग को लेकर निचली अदालत में अर्जी लगा दी. मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने दिल्ली पुलिस को मामले में कार्रवाई रिपोर्ट दायर करने का निर्देश दिया है.

आपको बता दें कि बच्ची अर्बीस पालसी नामक बीमारी से जूझ रही है, इस बीमारी में बच्ची को दवाएं सीधे तौर पर नहीं, बल्कि माँ के दूध के जरिए दी जाती है, इसके लिए माँ को दवाइयां लेनी होती है. इस पुरे मामले में सवाल यह उठता है कि अगर एक स्तन पर लात खाकर दूसरे स्तन से अपनी संतान का पोषण करने की शक्ति जब ईश्वर ने माँ को दी है, तो फिर इस बच्ची के साथ इतनी नाइंसाफी क्यों ? 

कोर्ट ने दी बलात्कारी को जमानत

बेकार मामलों पर अपील दायर न करे- सुप्रीम कोर्ट

कठुआ मामला छोटी सी बात-कविंदर गुप्ता

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -