ज्ञानवापी मस्जिद के पास खुदाई में मिले 11 मंदिर, लेकिन कई मंदिरों से प्रतिमाएं गायब

वाराणसी: काशी में विश्वनाथ कॉरिडोर का कार्य जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, मंदिर और शिवलिंग मिलने का सिलसिला भी उसी रफ़्तार से बढ़ता जा रहा है। ज्ञानवापी मस्जिद से लगे करमाइकल लाइब्रेरी और आसपास के मकानों को ध्वस्त करने पर लगभग 11 मंदिर मिलने की सूचना है। इसमें तीन मंदिर ऐसे मिले हैं, जिसमें मूर्ति मौजूद नहीं है। 
 
विशेषज्ञों का कहना है कि मंदिर से भगवान की मूर्ति को शायद खंडित कर दिया गया होगा। यह मंदिर कितने पुराने हैं, अभी इसका भी कोई साफ़ जवाब नहीं मिल पाया है। मंदिर की भव्यता को देख अनुमान लगाया जा रहा है कि ये सभी 11वीं-12वीं शताब्दी के दौरान बनाए गए होंगे। अब तक कारिडोर परिसर के अंदर से छोटे-बड़े मिलाकर 66 मंदिर सामने आ चुके हैं। सभी मंदिरों को संरक्षित करने की योजना बनाई गई है, जिसमें 30 मंदिरों को भव्य रूप दिया जाएगा। मंदिर प्रशासन का कहना है कि जिन मंदिरों में प्रतिमाएं नहीं मिली हैं, उनमें भी प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

कारमाइकल लाइब्रेरी के धवस्तीकरण में मिले दो मंदिर सुर्खियों में बने हुए हैं। इसमें एक दंतपाणि भैरव का मंदिर है और दूसरा शंकराचार्य की समाधि बताई जा रही है। जानकारों का कहना है कि दंतपाणि भैरव का मंदिर कई शताब्दी पुराना लग रहा है। हालांकि प्रथम दृष्टया लोगों का कहना है कि यह विश्वनाथ मंदिर के निर्माण से भी प्राचीन है। वहीं शंकराचार्य की समाधि को लेकर भी यह कहा जा रहा है कि इसका इतिहास काफी प्राचीन निकलेगा। इस पर मंदिर प्रशासन का कहना है कि दोनों मंदिरों को सुरक्षित तरीके से संरक्षित कर दिया गया है। दोनों मंदिर किस वक़्त के हैं यह तो पुरातत्व विभाग ही बता पाएगा।

ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को इस देश ने दी मंज़ूरी, जल्द शुरू होगा टीकाकरण

देश का सबसे बड़ा डिफॉल्टर कौन ? ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा अनिल अंबानी का नाम

भाजपा नहीं छोड़ेंगे मनसुख वसावा, सीएम रुपाणी से बातचीत के बाद वापस लिया इस्तीफा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -