ये मर्ज भी क्या खूब है

भी तन्हाई, कभी तड़प, 
कभी बेबसी, तो कभी इंतज़ार..
ये मर्ज भी क्या खूब है,
जिसे इश्क कहते है.....

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -