दिल्ली का करण बना दुनिया का पहला 'मॉडिफाई बॉडीबिल्डर'

दुनिया भर से कई अजीबोगरीब मामले सामने आते रहते है इस बीच दिल्ली के एक नौजवान ने कुछ ऐसा किया है जिससे देखकर हर कोई स्तब्ध है। वो इस विश्व के पहले मॉडिफाइड बॉडी बिल्डर है। उनकी बॉडी का कोई भी ऐसा भाग नहीं है ज‍िस स्थान पर टैटू ना बने हो। न जाने कितने वर्षों से टैटू बनवाना तथा दर्जनों सर्जरी के पश्चात् मॉडिफाई बॉडीबिल्डर बनने के पश्चात् विश्व उसे "टैटूग्राफर करण" के नाम से जानती है।

वही टैटूग्राफर करण की बॉडी का कोई भाग नहीं है जहां पर टैटू ना बने हो। बॉडी की त्वचा के अतिरिक्त इनके आंखों में भी टैटू है। टैटू के टशन को पूरा करने के लिए इन्होंने अपने कान को भी मॉडिफाई कराया है। इन्होंने अपने सारे दांत हटाकर मेटल के दांत लगवाए हैं। इन्होंने अपनी जीभ की सर्जरी भी कराई है। इससे ऐसा प्रतीत होता है मानो यह किसी मनुष्य की नहीं बल्कि सांप की जीभ है।

इसके साथ ही टैटूग्राफर करण ने सबसे फर्स्ट टैटू 16 वर्ष की आयु में बनवाया था। उसके पश्चात् से इन्होंने टैटू आर्टिस्ट का काम आरम्भ किया तथा सबसे पहला टैटू स्वयं से शरीर पर बनाया। यह सिलसिला निरंतर बढ़ने लगा। करण ने पिछले कई वर्षों में अपनी पूरी बॉडी पर टैटू बनवाया। इसके साथ साथ वह बॉडीबिल्डर भी हैं। बॉडीबिल्डिंग करना तथा टैटू बनवाना दोनों काफी कठिन है क्योंकि टैटू बनवाते समय बॉडी से बहुत अधिक खून निकलता है तथा उन्हें आराम करना पड़ता है। वही बॉडीबिल्डिंग के लिए उन्हें बॉडी से संबंधित मेहनत की आवश्यकता रहती है। 

पहली ट्रांसवुमन का बड़ा बयान, कहा- "यह एक पुनर्जन्म की तरह है..."

टीवी में मीराबाई चानू को देखकर छोटी सी बच्ची ने उठाया 'भारी वजन', देखकर दंग रह गए लोग

रिश्वत ले-लेकर पुलिस अफसर ने बनाया सोने का बाथरूम, अब हुआ गिरफ्तार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -