इंग्लैंड में इस वजह से 36 साल पहले बदल गया था भारतीय क्रिकेट का इतिहास

इंग्लैंड में इस वजह से 36 साल पहले बदल गया था भारतीय क्रिकेट का इतिहास
Share:

गभारतीय क्रिकेट टीम विश्व कप 2019 का चैंपियन बनने को बेताब है. टीम इस टूर्नामेंट में खिताब का प्रबल दावेदार मान जा रही है. हालांकि, एक दौर वह भी था, जब टीम इंडिया को लेकर किसी भी को ऐसी उम्मीद नहीं होती थी. वह आज का ही दिन था, जब इतिहास बदल गया. भारतीय टीम ने विश्व क्रिकेट को बताया कि वह भी चैंपियन बन सकती है. 25 जून 1983 को कपिल देव की अगुआई में भारतीय टीम ने लॉर्ड्स के मैदान पर विश्व कप की ट्रॉफी उठाई थी. इस जीत ने भारतीय क्रिकेट की दुनिया ही बदल कर रख दी. युवा खिलाड़ियों को कई हीरो मिल गए और क्रिकेट की दुनिया में भारत ने अपनी धाक जमाई. जो कि स्मरणीय पल है.

चिली ने कुछ इस तरह एकतरफा मुकाबले में जापान को दी करारी शिकस्त

इंग्लैंड के लॉर्ड्स के मैदान पर 36 साल पहले आज ही के दिन 1983 मे विश्व कप का फाइनल खेला गया था. भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज को 43 रन से हराया था. उस दौर वेस्टइंडीज की टीम दुनिया की नंबर वन टीम थी. इसके अलावा फाइनल से पहले टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी दिग्गज टीमों की मात दी थी. वेस्टइंडीज की टीम इससे पहले दो बार विश्व विजेता बन चुकी थी. वहीं, टीम इंडिया का प्रदर्शन इन दोनों विश्व कप काफी खराब था. टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज की जीत की हैट्रिक पर ऐसी लगाम लगाई कि उसके बाद अब तक वह फिर विश्व कप नहीं जीत पाए.

क्रिकेट के इतिहास में बना एक और नया रिकॉर्ड, छह रन पर ढेर हुई पूरी टीम

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि वेस्टइंडीज की टीम ने पहले गेंदबाजी करते हुए भारतीय टीम को 183 रन पर समेट दिया था. मॉर्कम मार्सेल, माइकल होल्डिंग और एम रॉबर्ट ने जमकर कहर बरपाया था. टीम को इंडिया के लिए जीत नामुमकिन-सी लग रही थी, लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने मैच ही पलट दिया. सबसे बलविंदर सिंह संधू ने गॉर्डन ग्रीनिज को सिर्फ एक रन पर बोल्ड कर भारत को जबरदस्त सफलता दिलाई. इसके बाद वेस्टइंडीज की पूरी टीम 140 रन पर ही ढेर हो गई. विश्व कप में कपिल देव बेहतरीन प्रदर्शन किया था. फाइनल में उन्होंने जलावा बिखेरा था. फॉर्म में नजर आ रहे रिचर्ड्स का कैच भूला ही नहीं जा सकता. कपिल देव ने अपने पीछे की तरफ लंबी दौड़ लगाते हुए एक बेहतरीन कैच लपक लिया. रिचर्ड्स का आउट होते ही वेस्टइंडीज की पारी बिखर गई. मैच के असली हीरो रहे मोहिंदर अमरनाथ. मोहिंदर अमरनाथ ने 12 रन पर तीन विकेट लिया. वहीं, बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 26 रन की अहम पारी खेली थी. उन्हें मैन ऑफ दी मैच के अवॉर्ड से नवाजा गया था. अपने बेहतर प्रदर्शन से टीम ​इडिया ने अपने नाम ये खिताब किया ​​था.

24 जून : भारतीय क्रिकेट इतिहास का 'काला दिन', 42 रनों पर ढेर हुईं पूरी टीम

क्रिकेट में धोनी के भविष्य को लेकर कुछ ऐसा बोले ग्लेन मैकग्रा

आईसीसी ने जारी किया 12वें महिला वर्ल्ड कप 2021 का शेड्यूल, ऐसा होगा पूरा टूर्नामेंट

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -