महिलाये दे सकती है इकनोमिक ग्रोथ में अहम योगदान

नई दिल्ली : देश की इकनॉमिक ग्रोथ को लेकर हाल ही में एक बहुत बड़ा खुलासा हुआ है. बताया जा रहा है कि यदि देश में महिलाओ को भी पुरुषों के बराबर का स्थान दिया जाये तो इससे इकनॉमिक ग्रोथ में काफी बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है. इस मामले में हाल ही में मकिंजी ग्लोबल इंस्टिट्यूट ने एक रिपोर्ट "द पावर ऑफ पैरिटीः अडवांसिंग विमिन ईक्वलिटी इन इंडिया" जारी की है जिसमे यह बात सामने आई है कि यदि महिलाओं और पुरुषो को एक समान माना जाता है तो इससे भारत के सकल घरेलु उत्पाद (GDP) में वर्ष 2025 तक करीब 46 लाख करोड़ रूपये की अतिरिक्त आय भी जुड़ सकती है.

रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि यदि देश में यह जेंडर गैप खत्म हो जाता है तो इसका अर्थव्यवस्था पर बहुत ही अच्छा इम्पेक्ट दिखेगा. इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि इसके बाद 1.4 फीसदी वार्षिक आधार पर इकनोमिक GDP ग्रोथ भी संभव है.

मामले में जारी रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई है कि, "फिलहाल के बारे में बात करें तो इंडिया में महिलाओं की भागीदारी केवल 31 फीसदी है, और अभी 6.8 करोड़ महिलाएं इकॉनमी की दौड़ में जुड़ना बाकि है. अभी GDP में महिलाओं का योगदान केवल 17 फीसदी ही है जोकि ग्लोबल एवरेज 37 फीसदी से काफी कम है." यदि महिलाये भी यहाँ पुरुषो के बराबर आकर खड़ी हो जाती है तो इससे इकॉनमी को बहुत फायदा हो सकता है. गौरतलब है कि भारत में जेंडर गैप काफी अधिक है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -