इंदौर : MY अस्पताल में लिफ्ट फंसने से महिला ने तड़प-तड़पकर दम तोडा

Sep 27 2015 03:04 AM
इंदौर : MY अस्पताल में लिफ्ट फंसने से महिला ने तड़प-तड़पकर दम तोडा

इंदौर। शनिवार को प्रदेश का सबसे बड़े एमवाय अस्पताल में फिर एक जिंदगी बद इंतजामी की भेंट चढ़ गई। ग्राउंड फ्लोर और फर्स्ट फ्लोर के बीच करीब आधे घंटे तक लिफ्ट फंसी रही। इस दौरान लिफ्ट पर सवार पेट दर्द और आंतों में छेद की पीड़ा से पीड़ित महिला की मौत हो गई। जब महिला अल्ट्रासोनोग्राफी के बाद ICU में जा रही थी तो यह घटना हुई। बता दे की लिफ्ट में महिला के साथ कोई वार्ड बॉय नहीं था। वही दूसरी तरफ, एमवायएच प्रशासन मरीज की हालत गंभीर बताकर मोन बैठा है। महिला के घरवालो ने कोई शिकायत नही की है। आपसी विवाद के कारण परिजन महिला का शव देवास स्थित मायके लेकर गए। 

यह घटना दोपहर करीब 4 बजे मोती तबेला की रहने वाली 25 साल की शाहिदा पति इरफान के साथ हुई। शाहिदा को दोपहर लगभग 12.45 को पेट दर्द और पेट फूलने की समस्या के चलते घरवाले अस्पताल लेकर पहुंचे। डॉक्टरों ने महिला की स्थिति बिगड़ती देख उसे सोनोग्राफी के लिए भेजा। परिजन खुद ही अस्पताल के बेसमेंट में सोनोग्राफी कराने पहुंचे। यहां जांच में उसे करीब एक घंटा लगा। मरीज को तीसरी मंजिल पर जाना था, लेकिन सही जानकारी नहीं होने से उसे पांचवी मंजिल पर 27 नंबर वार्ड ले जाने लगे। उसे परिजन करीब सवा तीन बजे लिफ्ट में लेकर चढ़े ही थे कि दूसरे मरीज के परिजन की भीड़ लग गई। लिफ्ट पहली और तल मंजिल के बीच अटक गई। करीब आधे घंटे बाद जैसे-तैसे लिफ्ट को सुधरवाकर नीचे लाया गया, लेकिन तब तक महिला दम तोड़ चुकी थी।

परिजन ने बाहर निकलते ही हंगामा किया और लिफ्टमैन के साथ मारपीट भी की। मरीजों को लाने ले जाने वाली इस लिफ्ट की क्षमता करीब 22-23 लोगों की है, लेकिन जिस समय शाहिदा को ले जाया जा रहा था उस समय करीब 30 लोग चढ़ गए। लिफ्टमैन होने के बावजूद किसी को रोका नहीं गया। बीच में ही लिफ्ट बंद हो गई। घटना के बाद सवाल यह भी उठ रहे है की महिला की मौत अत्यधिक पेट दर्द के कारण हुई या फिर लिफ्ट में हवा नही मिलने के कारण महिला ने दम तोडा। वही अस्पताल प्रशासन महिला की मौत पर गंभीर हालत होने का कारण बता रहा है।