सीएम नीतीश पर तेजस्वी का हमला, बोले- नेताओं को रिहा करने की अनिच्छा राजनीति से है प्रेरित...

पटना: बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी RJD ने शुक्रवार को मांग की कि 14 वर्षों से ज्यादा वक़्त तक जेल में सजा काट चुके राजनेताओं को तुरंत रिहा किया जाए। बिहार विधानसभा में चेतन आनंद समेत RJD एवं अन्य विपक्षी दलों के विधायकों द्वारा शुक्रवार को 14 वर्षों से ज्यादा वक़्त तक जेल में सजा काट चुके राजनेताओं की तत्काल रिहाई के लिए एक ध्यानकर्षण लाया गया था। आनंद के पिता आनंद मोहन सिंह को क़त्ल के मामले में मौत की सजा दी गई थी जिसे बाद में आजीवन कारावास में परिवर्तित कर दिया गया था। 

तत्पश्चात, बिहार विधानसभा परिसर में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के साथ मीडिया वार्ता के दौरान चेतन ने कहा, "मैंने सदन के सदस्य और एक पीड़ित परिवार के सदस्य के तौर पर इस मुद्दे को उठाया था।" चेतन ने कहा, "प्रभारी मंत्री द्वारा मेरे निवेदन का उत्तर साफ़ तौर पर दिखाता है कि ऐसे कैदियों को रिहा करने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। मैंने न सिर्फ अपने पिता के लिए बल्कि राजेंद्र यादव समेत कई अन्य व्यक्तिओय्न की जमानत के लिए यह मुद्दा सदन में उठाया था।"

बता दे कि राजेंद्र यादव गया के अतरी से RJD के पूर्व विधायक हैं जिन्हें JDU के एक कार्यकर्ता के क़त्ल के लिए अपराधी ठहराया गया है जो फरवरी 2005 में सीट जीतने के पश्चात् विजय जुलूस निकाल रहे थे। प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर सियासी द्वेष के तहत विपक्षी दलों से संबंधित ऐसे नेताओं को रिहा नहीं करने का इल्जाम लगाते हुए कहा कि आनंद मोहन एवं राजेंद्र यादव को रिहा करने की अनिच्छा सियासत से प्रेरित है। उन्होंने यह भी इल्जाम लगाया कि एक निवर्तमान मंत्री के भतीजे का नाम लगभग एक महीने पहले हुए एक क़त्ल में आने के पश्चात् भी उसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया। RJD नेता तेजस्वी यादव ने बाद में पटना स्थित राज्य मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के चलते पूर्णिया जिले से जुड़े एक मर्डर केस पर भी चर्चा की। 

विपक्षी दल अपने दम पर बीजेपी से नहीं लड़ सकते: दिनेश शर्मा

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -