Share:
क्यों आते है खर्राटे और कैसे बंद करें? यहाँ जानिए इससे छुटकारा पाने के उपाय
क्यों आते है खर्राटे और कैसे बंद करें? यहाँ जानिए इससे छुटकारा पाने के उपाय

खर्राटे लेना कई लोगों के लिए एक सामान्य घटना है, जो अक्सर गले के शिथिल ऊतकों के कारण होता है, जिससे हवा गुजरने पर कंपन होता है। हालांकि कभी-कभार खर्राटे लेना सामान्य बात है, लेकिन कुछ व्यक्तियों के लिए यह चिंता का विषय बन सकता है। खर्राटों की समस्या को कम करने या खत्म करने में जीवनशैली में बदलाव महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। यदि ध्यान न दिया जाए, तो लगातार खर्राटे लेना संभावित रूप से अधिक गंभीर स्थिति का संकेत हो सकता है, जैसे ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए)।

कारणों की पहचान करना
खर्राटे अक्सर ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (ओएसए) से जुड़े होते हैं, यह एक नींद संबंधी विकार है जिसमें नींद के दौरान सांस लेने में थोड़ी रुकावट होती है। हालाँकि सभी खर्राटों में ओएसए नहीं होता है, तेज़ और तेज़ खर्राटे इसकी उपस्थिति का संकेत दे सकते हैं। ओएसए के लक्षणों में सांस लेने में रुकावट, दिन में अत्यधिक नींद आना, सांस के लिए हांफते हुए उठना, रात के दौरान सीने में दर्द और उच्च रक्तचाप शामिल हैं। यदि आप ऐसे लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है।

जीवन शैली में परिवर्तन
वज़न प्रबंधन:

स्वस्थ वजन बनाए रखना महत्वपूर्ण है, क्योंकि अतिरिक्त वजन, विशेष रूप से गर्दन के आसपास, वायुमार्ग में रुकावट और खर्राटों में योगदान कर सकता है। नियमित व्यायाम करने और संतुलित आहार अपनाने से वजन प्रबंधन में मदद मिल सकती है।

सोने से पहले शराब से परहेज:
शराब का सेवन, विशेष रूप से सोते समय, गले की मांसपेशियों को आराम दे सकता है, जिससे खर्राटों की स्थिति खराब हो सकती है। विशेष रूप से शाम के समय शराब का सेवन सीमित करने की सलाह दी जाती है।

नाक की भीड़ को संबोधित करना:
नाक बंद होने से खर्राटे आ सकते हैं। नाक की पट्टियों या बाहरी नाक के विस्तारकों का उपयोग करने से नाक के मार्ग को खुला रखने में मदद मिल सकती है, जिससे वायु प्रवाह सुचारू हो जाता है और खर्राटों को कम किया जा सकता है।

नींद की स्थिति:
पीठ के बल सोने से जीभ और तालू गले के पीछे तक सिकुड़ जाते हैं, जिससे खर्राटे आने लगते हैं। करवट लेकर सोने से यह समस्या कम हो सकती है। बिस्तर के सिरहाने को थोड़ा ऊपर उठाने से भी मदद मिल सकती है।

पर्याप्त नींद की अवधि:
यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आपको हर रात पर्याप्त नींद मिले। अमेरिकन एकेडमी ऑफ स्लीप मेडिसिन वयस्कों के लिए 7-9 घंटे की नींद की सलाह देता है। नींद की कमी से मांसपेशियों को आराम मिल सकता है और खर्राटों की संभावना बढ़ सकती है।

नाक के उपकरण:
नाक की पट्टियाँ या बाहरी नाक का विस्तारक नाक के वायुप्रवाह को बेहतर बनाने में प्रभावी हो सकता है। ये उपकरण नासिका मार्ग में प्रतिरोध को कम करने में मदद करते हैं, जिससे सांस लेना आसान हो जाता है और संभावित रूप से खर्राटे कम हो जाते हैं।

जीवनशैली में बदलाव के माध्यम से खर्राटों को संबोधित करने से नींद की गुणवत्ता और समग्र कल्याण में काफी सुधार हो सकता है। जबकि कभी-कभी खर्राटे लेना सामान्य है, लगातार और विघटनकारी खर्राटों के लिए चिकित्सकीय ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है। यदि आप दिन में नींद आने या उच्च रक्तचाप जैसे अतिरिक्त लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया जैसे किसी भी अंतर्निहित नींद विकार से बचने के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें। आपकी दैनिक दिनचर्या में सरल समायोजन खर्राटों को प्रबंधित करने और कम करने, शांत और अधिक आरामदायक रात की नींद को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण अंतर ला सकता है।

सर्दियों में घर पर जरूर बनाएं पंजीरी के लड्डू, आसान है रेसिपी

'भगवाकरण करने के लिए हमारा फंड रोक दिया..', केंद्र सरकार पर सीएम ममता बनर्जी का गंभीर आरोप

सर्दियों में जरुरी है सनस्क्रीन लगाना, वरना हो सकती है ये दिक्कतें

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -