Share:
सीएम ममता बनर्जी ने RBI से क्यों माँगा 10 हज़ार करोड़ का कर्ज ?
सीएम ममता बनर्जी ने RBI से क्यों माँगा 10 हज़ार करोड़ का कर्ज ?

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने भारतीय रिजर्व बैक (RBI) से 10 हजार करोड़ रुपये का कर्जा माँगा है. बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और नंदीग्राम के भाजपा MLA शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट करते हुए यह दावा किया है. इसके साथ ही केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से आग्रह किया है कि ममता बनर्जी सरकार के आग्रह को स्वीकार नहीं करें, क्योंकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) की सरकार सरकारी खजाने का गलत इस्तेमाल कर रही है. इस राशि का इस्तेमाल विकास के लिए नहीं किया जाकर, इनका दुरपुपयोग होगा.

शुभेदु अधिकारी ने इसके साथ ही आरोप लगाते हुए कहा है कि ममता बनर्जी की सरकार ने पहले FRBM अधिनियम के तहत उधार की सीमा का उल्लंघन कर चुकी है और पश्चिम बंगाल पर लगभग छह लाख करोड़ रुपये का ऋण पहले से ही है. भाजपा विधायक शुभेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि, 'पश्चिम बंगाल सरकार ने 10000 करोड़ रुपये की राशि के लिए RBI से ऋण अनुरोध किया है. दुर्भाग्य से पश्चिम बंगाल पहले ही राजकोषीय उत्तरदायित्व और बजट प्रबंधन (FRBM) अधिनियम के तहत अपनी उधार सीमा का उल्लंघन कर चुका है. यह भी चिंताजनक है कि बंगाल पर लगभग 6 लाख करोड़ रुपये का कर्ज पहले से ही है.'

शुभेंदु अधिकारी ने आगे लिखा है कि, 'हालांकि यह राशि बुनियादी ढांचे के विकास के लिए मांगी गई है, मगर इसका इस्तेमाल  कर्मचारियों के वेतन और लक्ष्मी भंडार जैसे भुगतान के लिए किया जाएगा. यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि स्थानीय निकायों में कई फर्जी कर्मचारी हैं और ज्यादातर लक्ष्मी भंडार लाभार्थी कोई भी अनुदान प्राप्त करने के पात्र नहीं हैं.'

पूर्व सीएम शंकर सिंह वाघेला के बेटे महेंद्र ने थामा कांग्रेस का दामन, गुजरात चुनाव से पहले बढ़ी हलचल

'दारू पीते हो क्या?', ये सवाल पूछकर विवादों में घिरे शिंदे के मंत्री

भाजपा की महिला नेताओं पर DMK लीडर ने की अपमानजनक टिप्पणी, कनिमोझी ने मांगी माफ़ी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -