'LG होता कौन है?..', केजरीवाल के सवाल पर उपराज्यपाल ने दिया करारा जवाब

नई दिल्ली: दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार और एलजी वीके सक्सेना के बीच टकराव बढ़ता ही जा रहा है। दिल्ली के उपराज्यपाल (LG) वीके क्सेना ने सीएम अरविंद केजरीवाल को उनकी हालिया टिप्पणी 'LG होता कौन है?' के बारे में पत्र लिखा है। बता दें कि, विगत दिनों सीएम केजरीवाल ने कथित तौर पर शिक्षकों को फिनलैंड में प्रशिक्षण से रोके जाने के मुद्दे पर नाराजगी प्रकट करते हुए विधानसभा में उपराज्यपाल पर तीखी टिप्पणियां की थीं।

 

दिल्ली के LG वीके सक्सेना ने सीएम अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर उन पर 'भ्रामक, अपमानजनक टिप्पणी' करने और 'निचले स्तर की बयानबाजी' पर उतरने का इल्जाम लगाया है। LG सक्सेना ने कहा कि मैं सीएम अरविंद केजरीवाल के प्रधानाचार्य के तौर पर नहीं, बल्कि लोगों की एक सौम्य, लेकिन कर्तव्यनिष्ठ आवाज के तौर पर काम कर रहा हूं। उपराज्यपाल ने अपने पत्र में लिखा है कि, प्रिय केजरीवाल जी, मीडिया रिपोर्टों के जरिए मेरे संज्ञान में आया है कि आपने बीते कुछ दिनों में राज्य विधानसभा के भीतर और बाहर कई बयान दिए हैं, जो अलग-अलग और मूल रूप से भ्रामक, प्रकृति और अपमानजनक हैं। जैसा कि 'एलजी कौन है' और 'वह कहां से आया', आदि का उत्तर दिया जा सकता है, अगर आप भारत के संविधान का भी जिक्र करते हैं, तो अन्य लोग जवाब देने के लायक नहीं हैं, क्योंकि शुरू के दिन से ही इसमें बेहद निचले स्तर की बयानबाजी की जा रही है। 

उपराज्यपाल ने अपने पत्र में कहा कि, हालांकि, मुझे मीडिया रिपोर्ट्स के जरिए पता चला कि सोमवार, 16/01/2023 को, आप विधानसभा छोड़कर राज निवास के बाहर अन्य लोगों के साथ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे और, मुझसे मिलने की मांग कर रहे थे। इसके बाद, मैंने आपको और डिप्टी सीएम को आमंत्रित किया। मैं चाहता था कि मुख्यमंत्री मुझसे मिलने आएं और मैं आपके साथ लंच करूंगा। हालाँकि, आपने अपने सभी विधायकों के साथ मुझसे मिलने का बहाना बनाकर, मिलने नहीं आए। LG ने आगे लिखा कि आप इस बात को मानेंगे कि आपकी तरफ से अल्प सूचना और अचानक की गई मांग के मद्देनज़र एक बार में 70-80 लोगों के साथ मीटिंग करना संभव नहीं होता और ना ही इससे कोई ठोस उद्देश्य पूरा होता। दुर्भाग्य से, आप एक सुविधाजनक सियासी मुद्दा बनाने के लिए आगे बढ़े कि, 'LG ने मुझसे (केजरीवाल से) मिलने से इनकार कर दिया'। LG ने कहा कि, मैं बात से हैरान था कि दिल्ली की कई गंभीर विकास संबंधी मुद्दों का सामना कर रही है। मुझसे मिलकर मामले को किसी तार्किक निष्कर्ष तक ले जाने की जगह आपने सिर्फ दिखावे के लिए विरोध प्रदर्शन का सहारा लिया। 

राजस्थान में घूसखोर अफसर को 'उत्कृष्ट सेवा मेडल' ! दिव्या मित्तल की गिरफ़्तारी के बाद हटा नाम

क्या भाजपा से हाथ मिला लेंगे सचिन पायलट ? रैलियों से मिल रहे बड़े सियासी संकेत

आखिर ठंड से 'डर' ही गए राहुल गांधी ? रिपोर्टर ने 3 बार पुछा सवाल, नहीं मिला कोई जवाब

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -