इस वजह से टाइगर ने तय किया तीन सौ किमी का सफर

इस वजह से टाइगर ने तय किया तीन सौ किमी का सफर

कोरोना संक्रमण में अब इंसानों का इधर-उधर भटकना रुक गया है. कोरोना के वजह से लॉकडाउन लग गया, लोग घरों में बैठे हुए ताकि वायरस से बचा जा सके. लेकिन ये रूल जंगल के जानवरों पर लागू नहीं होता है. इसी दौरान एक टाइगर तीन सौ किलोमीटर चल दिया. इस टाइगर ने कई जंगल, कई गांव और कई सीमाएं पार कर ली और पता है ऐसा उसने क्यों किया?

एक रिपोर्ट के अनुसार, ये टाइगर पहले चंदौली राष्ट्रिय पार्क महाराष्ट्र में था. लेकिन, अभी ये काली टाइगर रिजर्व उत्तर कन्नड़ कर्नाटक में है. अब ये ही इसका नया घर बन गया है. आपको बता दें कि बाघ अपने अनुकूल वातावरण के मुतबिक ये अपना क्षेत्र बदल भी लेते हैं. वर्ष 2018 में ये टाइगर Sahyadri Tiger Reserve में था.

बता दें की कर्नाटक फॉरेस्ट डिपार्टमेंट का बोलना है कि गत अप्रैल और मई में वो विभिन्न -विभिन्न स्थानों पर देखा गया. हालांकि, इस टाइगर का नाम टी-31 है. ये एक नर बाघ है. फॉरेस्ट डिपार्टमेंट ने बताया गया है कि इन दोनों जगली क्षेत्र के बीच करीब 225 किमी की दूरी है. उन्होंने ये भी बताया कि गत कुछ सालों से काली टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या बाद गई है. वर्ष 2020 में अभी तक यहां पचीस अडल्ट टाइगर कैमरे में रिकॉर्ड किए गए हैं.

 कोरोना का ऐसा डर की शख्स ने वॉशिंग मशीन में धो डाले 14 लाख रुपाए, फिर सुखाने के लिए किया कुछ ऐसा

शख्स ने कैमरे के सामने बिना कुछ करें बिताए 2 घंटे, फिर भी 19 लाख से ज्यादा व्यूज ले गया!

इस देश में है दुनिया का सबसे ऊंचा जिराफ, लंबाई को मापने के लिए बनाना पड़ा विशेष खंभा