क्या है Wilson Disease? जानिए इस दौरान क्या खाएं और किनसे करें परहेज

क्या है Wilson Disease? जानिए इस दौरान क्या खाएं और किनसे करें परहेज
Share:

विल्सन रोग एक आनुवंशिक विकार है जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित हो सकता है। यह प्रत्येक 30,000 व्यक्तियों में से लगभग 1 को प्रभावित करता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं कि यह बीमारी तब होती है जब शरीर में कॉपर की मात्रा अधिक हो जाती है। इस बीमारी के दौरान लिवर, मस्तिष्क, आंखें, किडनी और हृदय सबसे अधिक प्रभावित अंग होते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, यदि आप अपने बच्चे में विल्सन रोग के लक्षण देखते हैं, तो तुरंत एक प्रतिष्ठित बाल चिकित्सा हेपेटोलॉजिस्ट से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

विल्सन रोग के लक्षण
विल्सन रोग के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि आपके शरीर का कौन सा अंग प्रभावित है। प्रभावित अंग के आधार पर अलग-अलग लक्षण प्रकट हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि लीवर प्रभावित है, तो आपको कमजोरी, थकान, वजन कम होना, पीलिया, मतली, उल्टी और भूख में कमी का अनुभव हो सकता है।

सबसे ज्यादा जोखिम में कौन है?
विल्सन रोग के पारिवारिक इतिहास वाले व्यक्तियों को सबसे अधिक खतरा होता है। विशेषकर, वे व्यक्ति जिनके माता-पिता, भाई-बहन या बच्चों को यह बीमारी हो चुकी है, उनमें इसके विकसित होने का खतरा अधिक होता है। विल्सन रोग के लक्षण आमतौर पर तब विकसित होते हैं जब व्यक्ति की उम्र 5 से 40 वर्ष के बीच होती है।

आहार संबंधी अनुशंसाएँ और परहेज रणनीतियाँ
विल्सन रोग से पीड़ित लोगों को कम तांबे वाले आहार का सेवन करना चाहिए। इसमें डेयरी उत्पाद, चावल, दलिया, चाय, कॉफी और नींबू पानी से परहेज करना शामिल है। नट्स, मशरूम, शेलफिश, चॉकलेट और कोको जैसे उच्च तांबे की मात्रा वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

विल्सन रोग के लिए परीक्षण
प्रभावित अंगों के आधार पर विल्सन रोग का निदान करने के लिए विभिन्न परीक्षण किए जाते हैं। रक्त परीक्षण, जैसे सीरम सेरुलोप्लास्मिन स्तर, कॉपर मूत्र परीक्षण, यकृत कार्य परीक्षण, अल्ट्रासाउंड, पीटी/आईएनआर परीक्षण और एमआरआई स्कैन, आमतौर पर तांबे के स्तर को मापने और प्रभावित अंगों के कामकाज का आकलन करने के लिए किए जाते हैं।

निष्कर्षतः, विल्सन रोग एक गंभीर आनुवंशिक विकार है जिसके लिए शीघ्र चिकित्सा की आवश्यकता होती है। शीघ्र पता लगाने और प्रबंधन से प्रभावित व्यक्तियों के लिए परिणामों में उल्लेखनीय सुधार हो सकता है। यदि आपको विल्सन रोग के किसी भी लक्षण पर संदेह है, तो तुरंत एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।

Google भारत में ला रहा ऐसा AI, जो X-Ray देखकर बता देगा बीमारी

एआई मृत लोगों को जीवन में वापस ला रहा है! मनुष्य के मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव

काम का बोझ बन रहा है तनाव का कारण, इन टिप्स से करें हैंडल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -