हम कुछ भी लिखे, पड़ते है पागल

मेरे कमरे में उड़ते हैं बादल;

मेरे कमरे में उड़ते हैं बादल;

.

मैं कुछ भी लिखूं पढ़ते हैं पागल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -