विश्वकर्मा जयन्ती : ऐसे करें विश्वकर्मा पूजा, यह है शुभ मुहूर्त

Sep 17 2018 12:20 PM
विश्वकर्मा जयन्ती : ऐसे करें विश्वकर्मा पूजा, यह है शुभ मुहूर्त

आप सभी इस बात से बखूबी वाकिफ होंगे कि हर साल 17 सितम्बर को विश्वकर्मा जयंती मनाई जाती है और इस दिन भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जाती है. आपको बता दें कि इस दिन भगवान विश्वकर्मा का जन्म हुआ था और उन्ही के जन्मदिन को मनाने के लिए हर साल 17 सितम्बर को विश्वकर्मा जयंती मनाई जाती है. आप सभी को पता ही होगा कि भगवान विश्वकर्मा की महत्ता इस बात से समझी जा सकती है कि उनके महत्व का वर्णन ऋग्वेद में भी किया गया है.

तो चलिए आज जानते हैं विश्वकर्मा पूजा का महत्व - कहते हैं सम्पूर्ण सृष्टि और कर्म व्यापार है और वह विश्वकर्मा भी है. सीधी भाषा मे यह कहा जा सकता है कि पूरी सृष्टि में जो भी कर्म सृजनात्मक है, एवं जिन कर्मो से जीव का जीवन संचालित होता है उन सभी के मूल में विश्वकर्मा जी है और उनका पूजन प्रत्येक व्यक्ति को प्राकृतिक ऊर्जा देता है साथ ही लोगों के कामों में आने वाली सभी अड़चनों को खत्म भी करता है. 


अब जानते हैं पूजा के लिए शुभ मुहूर्त्त-  आपको बता दे कि इस वर्ष वृश्चिक लग्न जो कि सुबह 10:17 बजे से 12:34 तक है, विशेष लाभकारी व सफलतादायी है, क्योंकि मंगल पराक्रम भाव में उच्च का बैठा हुआ है.


कैसे कर सकते हैं भगवान विश्वकर्मा जी की पूजा- सबसे पहले श्री विश्वकर्मा जी की पूजा के लिए आवश्यक सामग्री जैसे अक्षत, फूल, चंदन, धूप, अगरबत्ती, दही, रोली, सुपारी,रक्षा सूत्र, मिठाई, फल आदि की व्यवस्था कर लीजिए और उसके बाद फैक्ट्री, वर्कशॉप, आॅफिस, दुकान आदि के स्वामी को स्नान कर सपत्नीक पूजा के आसन पर बैठ जाए और कलश को अष्टदल की बनी रंगोली जिस पर सतनजा हो वहां रख दें.  इसके बाद विधि-विधान से क्रम के अनुसार पूजा करें. आपको यह भी बता दें कि पूजा में किसी भी प्रकार की जल्दबाजी नहीं होनी चाहिए.

आज ऐसे करें धनवान बनने के लिए महालक्ष्मी व्रत और पूजन

आज से शुरू हुआ पर्युषण महापर्व, ये है महत्व

जन्माष्टमी : वार के अनुसार करें भगवान कृष्ण का श्रृंगार