क्या विजेंदर रचेंगे मुक्केबाजी में भारत का नया इतिहास ?

बुक्केबाजी से भारत देश का नाम रोशन करने वाले बेहतरीन मुक्केबाज विजेंदर सिंह का मुकाबला आज चेका से होने जा रहा है. चेका अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ के सुपर मिडिलवेट डिवीजन में मौजूदा अफ्रीकन चैम्पियन हैं. विजेंदर ने इसी साल डब्ल्यूबीओ एशिया पेसिफिक सुपर मिडिलवेट का ख़िताब ऑस्ट्रेलिया के कैरी होप को अपने पंचो से मात देकर हासिल किया था.वही तंजानिया के चेका आज वीरेंद्र से इसी ख़िताब के लिए भिड़ेंगे.

चेका के पास 43 मुकाबलो का अनुभव है. जिसमे उन्होंने 32 मुकाबले में अपनी जीत का परचम लहराया है. महज 17 साल की उम्र में पेशेवर मुक्केबाजी की दुनिया में कदम रखने वाले चेका के पास 34  साल की उम्र में 16 साल का अनुभव है.वही हरियाणा के मुकेबाज विजेंदर सिंह ने भी मुक्केबाजी के इतिहास में कई कारनामे किए है.

उन्होंने 2008 के ओलिंपिक में भारत को मुक्केबाजी में पहला पदक दिलाया था और अब उन्हें 2016 में एक बार फिर इतिहास रचने का मौका मिला है.विजेंदर के अलावा  पांच अंडरकार्ड मुकाबलेऔर खेले जाएंगे, जिसमें प्रदीप खारकेरा (67 किलोग्राम भारवर्ग), कुलदीप धांडा (61 किलोग्राम भारवर्ग), धर्मेद्र (91 किलोग्राम भारवर्ग), दीपक तंवर (67 किलोग्राम भारवर्ग) और राजेश कुमार (61 किलोग्राम भारवर्ग) के मुकाबले शामिल हैं.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -