तूतीकोरिन: वेदांता के चेयरमैन का बयान

स्टरलाइट कॉपर प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई 13 लोगों की मौत का मामले ने राजनीतिक रूप ले लिया है.तमिलनाडु के तूतीकोरिन में हुई हिंसक झड़पों के बीच वेदांता के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने मामले में बयान दिया है. उन्होंने कहा कि जो भी तूतीकोरिन में हुआ है हम उससे दुखी हैं. अभी ये प्लांट बंद है, लेकिन इसे दोबारा शुरू करने के लिए हम सरकार और कोर्ट के आदेश का इंतजार कर रहे हैं. हम अभी तक कोर्ट और सरकार के हर नियम का पालन कर रहे हैं. गुरुवार को भी इस मामले में तमिलनाडु में प्रदर्शन किया गया. तमिलनाडु सचिवालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. इस मामले पर तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री ई पलानीस्वामी का कहना है कि, 'स्‍टालिन बवाल की नियत से आए थे. वो पब्‍लिसिटी के लिए ड्रामा कर रहे थे.'


मुख्‍यमंत्री ने कहा, 'स्‍टालिन का कहना है कि मैंने उनसे मुलाकात नहीं की, लेकिन वो मेरे सामने बैठे थे. अगर वो कहते कि स्टरलाइट कॉपर प्लांट को लेकर वो याचिका देना चाहते हैं तो मैं उसे जरूर से लेता. लेकिन वो ड्रामा कर रहे थे.' पलानीस्वामी ने बताया कि 'जयललिता ने पहले ही कॉपर प्‍लांट की बिजली कटवा दी थी. लेकिन ये फैसला एनजीटी के द्वारा बदल दिया गया. इसके बाद 2013 में एनजीटी के फैसले के खिलाफ जयललिता सुप्रीम कोर्ट गई थीं. जहां ये मामला अभी भी विचाराधीन है.'

गौरतलब है कि तूतीकोरिन में विरोध-प्रदर्शन के कारण स्टरलाइट कॉपर प्लांट बंद होने से 32 हजार 500 नौकरियों पर असर पड़ा है. इनमें 3 हजार 5 सौ लोगों की आजीविका पर सीधा असर पड़ा है, जबकि 30 से 40 हजार नौकरियों पर अप्रत्यक्ष रूप से प्रभाव पड़ा है. 

 

तूतीकोरिन में प्रदर्शन कर रहे स्टालिन गिरफ्तार

स्टरलाइट विवाद: कंपनी बंद होने से बुझे 32 हज़ार 500 चूल्हे

तूतीकोरिन पहुंचेंगे कमल हासन, मद्रास कोर्ट आज सुनाएगी फैसला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -