बसंत पंचमी में बन रहे है विशेष योग आप भी उठा सकते है लाभ

Feb 12 2016 09:07 PM
बसंत पंचमी में बन रहे है विशेष योग आप भी उठा सकते है लाभ

मानव के जीवन में धर्म और कर्म के चलते  व्रत और त्योहारों की अपनी एक विशेष महत्वता होती है. जो व्यक्ति के जीवन में एक नई किरण प्रकाशित करते है उसके जीवन में आनंद और उत्साह भर देते है इन्हीं पर्वों में एक पर्व बसंत पंचमी है जो माँ सरस्वती की आराधना का पर्व मना जाता है और माँ की आराधना से भक्तों के बौद्धिक विकास में उन्नति होती है. इस मां सरस्वती की कृपा के लिए पूजन के साथ ही नए कार्यों की शुरुआत भी की जा सकेगी.


इस बसंत जो मानव जीवन में प्रेम की भावना और एकता के भाव को उजागर करता है , विशेष बात तो यह है की इस दिन प्रकृति अपना एक नया रूप  दिखाती है उसकी सुंदरता ऐसे प्रतीत होती है कि ऐसा लगता है जैसे जमीन और आसमान  ने मिलकर पीली चादर ओढ़ ली हो. वहीं, धर्मशास्त्रों के मुताबिक कहा जाता है कि विद्या की देवी मां सरस्वती का पूजन भी इस बसंत पंचमी के पावन पर्व पर होता है .विद्यार्थियों के लिए यह दिन इतना शुभ होता कि वे इस दिन माँ की आराधना करें तो उनका बौद्धिक विकास बढ़ता है . इस दिन लोग माँ की आराधना सच्चे मन से करते है तो उनके बिगड़े कार्य अवश्य रूप से बनते है . शास्त्रों के अनुसार  बताया जा रहा है इस बार बसंत की शुरुआत वैलेंटाइन वीक में पड़ रही है. जो प्रेमियों और विद्यार्थियों के लिए  बहुत ही खास है. ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि यह पर्व 'शुक्र' के दिन पड़ने की वजह से वैवाहिक जीवन सुखमय बने रहने की प्रबल संभावना है.

बताया जाता है की यह पर्व माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी को मां सरस्वती की उत्पत्ति का दिन माना गया है. इस तिथि को वसंत पंचमी के रूप में मनाया जाता है. इस वर्ष यह पर्व  12 फरवरी को पड़ रहा है जिसमें  कुछ विशेष योग बन रहे हैं। इसमें सर्वार्थ सिद्धि व अमृत योग शामिल हैं। इससे पूजा-अर्चना के साथ ही नए कार्यों की शुरुआत करने व विवाह के लिए भी इस तिथि को मंगलकारी माना जा रहा है। इस अवसर पर मंदिरों के साथ ही स्कूल, कॉलेजों,  जैसे अन्य संस्थानों में माँ सरस्वती  का पूजन  बड़ी ही उत्सुकता के साथ होगा . इसके साथ ही शिक्षा आरंभ व अन्य शुभ कार्यों की भी शुरुआत होगी।

धर्म शास्त्रों के अनुसार पंडितों का मानना है कि वसंत पंचमी विवाह के लिए भी श्रेष्ठ मानी जाती है. यह बहुत ही शुभ दिन दिन होता है. पंडितों के अनुसार वसंत पंचमी में अक्षय मुहूर्त रहता है. यह विवाह के साथ ही सभी शुभ कार्यों की शुरुआत करने के लिए उत्तम होता है