यूपी स्पेशल टास्क फोर्स ने रक्त तस्करी रैकेट से गिरफ्तार किए 2 लोग

लखनऊ: उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने कथित तौर पर रक्त तस्करी रैकेट चलाने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इसमें इटावा के सैफई मेडिकल कॉलेज में एक सहायक प्रोफेसर शामिल हैं। इनके कब्जे से 100 यूनिट रक्त भी बरामद किया गया है। सूत्रों से प्राप्त विवरण के अनुसार, स्पेशल टास्क फोर्स ने ढाई साल पहले मिलावटी रक्त की खरीद-बिक्री में शामिल एक गिरोह का भंडाफोड़ किया था और तब से टीम रक्त तस्कर गिरोहों पर कड़ी निगरानी रख रही थी।

एसटीएफ अधिकारी ने बताया 'खून की तस्करी में शामिल दो लोगों को एक बार फिर गिरफ्तार किया गया है. यूपी से राजस्थान, हरियाणा और पंजाब में खून की तस्करी करने वाले सहायक प्रोफेसर डॉ. अभय प्रताप सिंह को तस्करी के दौरान 45 यूनिट खून के साथ गिरफ्तार किया गया." पूछताछ के दौरान, डॉ सिंह ने खुलासा किया कि वह दान किए गए रक्त को इकट्ठा करता है और आपूर्ति करता है जिसके लिए उसके पास घर पर सभी दस्तावेज हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक जब एसटीएफ की टीम डॉक्टर को लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी स्थित उनके गंगोत्री अपार्टमेंट में ले गई तो उनके फ्रिज से 55 यूनिट खून बरामद हुआ और उनके साथी अभिषेक पाठक को भी फ्लैट के दूसरे कमरे से पकड़ा गया. खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) की टीम ने सिंह द्वारा दिखाए गए दस्तावेजों की जांच की और उन्हें जाली पाया। डॉक्टर ने कहा कि वह राजस्थान के ब्लड बैंकों से 1,200 रुपये में एक यूनिट रक्त खरीदता है और इसे लखनऊ और आसपास के नर्सिंग होम में 4,000 से 6,000 रुपये में बेचता है।

बारिश ने बढ़ाई आफत! उफनते नाले में गिरा बुजुर्ग, हुआ ये हाल

इस राज्य में 20 सितंबर से खुल रहे है 6 से 8 वीं तक के स्कूल

खुशखबरी: 18 सितंबर से शुरू हो जाएगी चार धाम यात्रा, HC के फैसले के बाद सीएम धामी ने किया ऐलान

Most Popular

- Sponsored Advert -