ट्रिपल तलाक मामले में कानून पहलुओ पर होगी सुनवाई

नई दिल्ली. इस्लाम से जुड़े मामले जब भी सामने आये है, तब-तब सुर्खियों में छाए है. ट्रिपल तलाक का मुद्दा काफी समय से चर्चा का विषय बना हुआ है. इस सम्बन्ध में जानकारी मिली है की ट्रिपल तलाक मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट पांच जजो की एक संविधान पीठ बना सकता है, जो की मामले की सुनवाई करेगी.

जस्टिस खेहर ने गुरुवार को इस मुद्दे पर सुनवाई के दौरान कहा की इस मामले पर सुनवाई क़ानूनी पहलुओ पर ही होगी. 30 मार्च को इस विषय में मुद्दे तय किये जाएगे, उसके बाद सुप्रीम कोर्ट 11 मई से ग्रीष्म अवकाश में इस मामले की सुनवाई शुरू करेगी. कोर्ट ने ये भी कहा है की इस मामले में सभी पक्षो के एक एक शब्द पर गौर किया जाएगा, पूरी सुनवाई कानून को आधार मान कर ही की जाएगी. बता दे ट्रिपल तलाक वाला मामला जैसे संवेदनशील विषय पर सुनवाई पर हर किसी की नजर होगी ही. इस मुद्दे पर मुस्लिम वर्ग विरोध तो कर रहे है. यह एक प्रकार से मानवाधिकार का मुद्दा है. पीठ ने कहा है की इस मामले में कॉमन सिविल कोड पर बहस नही करेगे.

यहाँ तक की सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा है की वो मुस्लिम लॉ के तहत तीन तलाक़ के मुद्दे को नहीं देखेगा. इस दौरान ईसाई समाज में होने वाले तलाक़ को लेकर भी ध्यान दिया जा रहा, ईसाई समाज में पहली शादी कानूनन तलाक लेने के साथ चर्च में रदद् करने कराने के बाद ही चर्च में दूसरी शादी की जा सकती है.  


ये भी पढ़े 

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में होने वाली भर्ती के लिए करें आवेदन

Triple Talaq को लेकर एससी में अंतिम सुनवाई 11 मई को

मायावती खेल रही दलित और मुस्लिम वोट बैंक कार्ड, केंद्रीय मंत्री नायडू ने किया विरोध

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -