+

सम्पूर्ण विश्व का यह एक ऐसा अद्भूत मंदिर जहां होता है भगवान शिव के अगूंठे का पूजन

सम्पूर्ण विश्व का यह एक ऐसा अद्भूत मंदिर जहां होता है भगवान शिव के अगूंठे का पूजन

भारत में भगवान शिव के बहुत से मंदिर है. जिसमे से एक धौलपुर के अचलेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध मंदिर है.जहाँ पर दिन में तीन बार रंग बदलने वाला भगवन शिव का यह शिवलिंग रूप है. और दुसरे माउंट आबू के अचलेश्वर महादेव है जो की दुनिया का ऐसा मंदिर है जहां पर शिवजी के पैर के अंगूठे का पूजन बड़े ही विधि-विधान से किया जाता है .

यह प्रसिद्ध मंदिर राजस्थान के एक मात्र हिल स्टेशन माउंट आबू में अर्धकाशी के नाम से भी जाना जाता है  यहाँ भगवान शिव के बहुत से प्राचीन मंदिर है. स्कंद पुराण में वर्णित है कि वाराणसी शिव की नगरी है तो माउंट आबू भगवान शंकर की उपनगरी भी है, अचलेश्वर माहदेव मंदिर माउंट आबू से लगभग 11 किलोमीटर दूर उत्तर दिशा में अचलगढ़ की पहाड़ियों पर अचलगढ़ के किले के पास स्थित है .

इस मंदिर में प्रवेश करते ही आपको पंच धातु की बनी नंदी की एक विशाल प्रतिमा दिखाई देगी,जिसका वजन लगभग चार टन है, इस मंदिर के अंदर गर्भगृह में शिवलिंग पाताल खंड के रूप में दृष्टिगोचर होता है, जिसके ऊपर एक तरफ पैर के अंगूठे का निशान उभरा हुआ  दिखाई देता है, जिन्हें स्वयंभू शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है.बताया जाता है की यह देवाधिदेव शिव का दाहिना अंगूठा  है. मान्यता है की इसी अंगूठे  से भगवान शिव ने  पुरे माउंट आबू के पहाड़ को थाम  लिया है .

इस प्रसिद्ध मंदिर में भगवान शिव के अंगूठे की पूजा बड़े ही उत्साह और विधि विधान के साथ की जाती है .