दिल्ली: नहीं माने लोग, आज सुबह धुंए से ढंका पूरा आसमान

नई दिल्ली: दिल्ली में वैसे ही हवा खराब थी और बीते रात 4 नवंबर को लोगों के दिवाली का त्यौहार मनाने के बाद और खराबी हो गई। जी दरअसल यहाँ पराली जलाये जाने से धुएं में तीव्र वृद्धि होने के बीच दिवाली पर आतिशबाजी पर सरकार द्वारा लगाये गये प्रतिबंध की अवहेलना की गई और बीते गुरुवार रात को दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों का आसमान धुएं के गुबार से ढंक गया। इसके चलते शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 'गंभीर श्रेणी' में पहुंच गया। आप सभी को बता दें कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) जो शाम चार बजे 382 था, वहीं रात 8 बजे तक यह बढ़कर 'गंभीर श्रेणी' में पहुंच गया क्योंकि कम तापमान और हवा की गति मंद रहने के कारण प्रदूषक तत्वों का बिखराव नहीं हो सका।

अब आज सुबह-सुबह जब दिल्लीवालों की नींद खुली तो रात के पटाखों का सुबह में भयंकर असर नजर आया। आज यानि शुक्रवार की सुबह दिल्ली में चारों तरफ धुआं-धुआं सा नजारा दिखा। यहाँ दिवाली के बाद वाली सुबह कोहरे की चादर में लिपटी नजर आई। सड़कों पर गाड़ियों को कोहरे की वजह से काफी परेशानी हो रही है और आज सुबह दिल्ली की हवा बेहद खराब श्रेणी में पहुंच चुकी है। यहाँ अक्षरधाम मंदिर के पास सुबह-सुबह का नजारा कुछ ऐसा था। बताया जा रहा है पटाखे जलाने के चलते रात नौ बजे के बाद दिल्ली के पड़ोसी शहरों फरीदाबाद में एक्यूआई 424, गाजियाबाद में 442, गुरुग्राम में 423 और नोएडा में 431 दर्ज किया गया, जो कि गंभीर श्रेणी में आता है। वहीं दिल्ली और इसके आसपास के कई क्षेत्रों के लोगों ने गले में खराश और आंखों से पानी आने की शिकायतें कीं।

यहाँ 1 जनवरी 2022 तक पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है लेकिन इसके बावजूद लोग नहीं माने और दक्षिण दिल्ली के लाजपत नगर, उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी, पश्चिमी दिल्ली के पश्चिम विहार और पूर्वी दिल्ली के शाहदरा में शाम सात बजे से पटाखे जलाए जाने के मामले सामने आए। दूसरी तरफ गुरुग्राम और फरीदाबाद में उच्च-तीव्रता के पटाखे जलाये गए। आज यानी शुक्रवार सुबह तक पीएम 2.5 प्रदूषण के स्तर में तेज वृद्धि दर्ज होने के आसार हैं और एक्यूआई 500 के स्तर को पार कर सकता है।

दिवाली के पहले निकला दिल्ली का दिवाला, बहुत खराब है हवा

'बम से उड़ा दूंगा..', दिल्ली में ब्लास्ट की धमकी देने वाला युवक गिरफ्तार

पूरे देश में डेंगू के सवा लाख केस, दिल्ली में चिकनगुनिया और मलेरिया का भी अटैक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -