थायराइड को कंट्रोल करने में आपकी मदद करेंगी ये तीन जड़ी-बूटियां, जानिए कैसे करें इनका इस्तेमाल

थायराइड को कंट्रोल करने में आपकी मदद करेंगी ये तीन जड़ी-बूटियां, जानिए कैसे करें इनका इस्तेमाल
Share:

थायरॉइड, आपकी गर्दन में तितली के आकार की एक छोटी ग्रंथि, विभिन्न शारीरिक कार्यों को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। चयापचय से लेकर ऊर्जा स्तर तक, यह ग्रंथि एक मूक शक्तिगृह है। हालाँकि, जब असंतुलन होता है, तो वे आपकी भलाई पर कहर बरपा सकते हैं।

थायराइड विकारों का उदय

हाल के वर्षों में, थायराइड विकार तेजी से प्रचलित हो गए हैं, जिससे दुनिया भर में लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। तनाव, पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थ और पोषण संबंधी कमी जैसे कारक थायराइड समारोह में इन व्यवधानों में योगदान करते हैं।

हर्बल उपचार: थायराइड की समस्या का प्राकृतिक समाधान

1. अश्वगंधा (विथानिया सोम्नीफेरा)

अश्वगंधा, जिसे भारतीय जिनसेंग के नाम से भी जाना जाता है, आयुर्वेदिक चिकित्सा में समृद्ध इतिहास वाला एक शक्तिशाली एडाप्टोजेन है। इसके एडाप्टोजेनिक गुण शरीर को तनाव से निपटने में मदद करते हैं, जो थायरॉइड असंतुलन के लिए एक सामान्य ट्रिगर है।

थायराइड स्वास्थ्य के लिए अश्वगंधा का उपयोग कैसे करें

अश्वगंधा को कैप्सूल के रूप में या स्मूदी या गर्म पेय पदार्थों में मिलाकर पाउडर के रूप में अपनी दिनचर्या में शामिल करें। कम खुराक से शुरू करें और आवश्यकतानुसार धीरे-धीरे बढ़ाएं।

2. ब्लैडरवैक (फ्यूकस वेसिकुलोसस)

ब्लैडरवैक, एक प्रकार की समुद्री शैवाल, आयोडीन का एक समृद्ध स्रोत है - जो थायरॉइड फ़ंक्शन के लिए महत्वपूर्ण खनिज है। आयोडीन की कमी अक्सर हाइपोथायरायडिज्म से जुड़ी होती है, जिससे ब्लैडरव्रैक एक मूल्यवान सहयोगी बन जाता है।

अपने आहार में ब्लैडरव्रैक को शामिल करना

सप्लीमेंट के माध्यम से या समुद्री शैवाल-आधारित व्यंजनों का सेवन करके अपने आहार में ब्लैडरक्रैक को शामिल करें। अपने आयोडीन सेवन का ध्यान रखें, क्योंकि इसकी अधिक मात्रा भी हानिकारक हो सकती है।

3. लेमन बाम (मेलिसा ऑफिसिनालिस)

अपने शांत गुणों के लिए जाना जाने वाला लेमन बाम तनाव-प्रेरित थायरॉयड समस्याओं से राहत देता है। इसकी सौम्य प्रकृति इसे नियमित उपयोग के लिए उपयुक्त बनाती है और समग्र कल्याण को बढ़ावा देती है।

लेमन बाम चाय बनाना

ताजी या सूखी नींबू बाम की पत्तियों को गर्म पानी में डुबाकर एक सुखदायक चाय बनाएं। अपने थायराइड स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए रोजाना इस चाय का आनंद लें।

सावधानी एवं परामर्श

हालाँकि ये जड़ी-बूटियाँ आशाजनक लगती हैं, लेकिन इन्हें अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पहले किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है। व्यक्तिगत प्रतिक्रियाएं अलग-अलग होती हैं, और एक विशेषज्ञ आपके स्वास्थ्य इतिहास के आधार पर व्यक्तिगत मार्गदर्शन प्रदान कर सकता है।​ अश्वगंधा, ब्लैडरक्रैक और लेमन बाम जैसी जड़ी-बूटियों के माध्यम से प्रकृति की शक्ति का उपयोग करना थायराइड प्रबंधन के लिए एक समग्र दृष्टिकोण हो सकता है। याद रखें, समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखना एक यात्रा है, और ये जड़ी-बूटियाँ रास्ते में मूल्यवान साथी हो सकती हैं।

भारत में Covid-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 4,049 हुई: स्वास्थ्य मंत्रालय ने 756 नए मामले सामने आने की सूचना दी

नाश्ते में बनाएं ये स्वादिष्ट व्यंजन, सेहत के लिए भी हैं फायदेमंद

अंडे से बनी ये डिश आपकी भूख मिटाएगी, आप भी करें ट्राई

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -