वीडियो : ये आंकड़े बनाते है ऑस्ट्रेलिया को ''कॉमनवेल्थ गेम्स'' का किंग...

क्रिकेट में तो ऑस्ट्रेलिया के वर्चस्व से सभी भली-भांति परिचित हैं, लेकिन कम ही लोग यह जानते होंगे कि 11 विश्व कप में से 5 में विजेता और 2 में उपविजेता रहा ऑस्ट्रेलिया, कॉमनवेल्थ खेलों में भी वही दबदबा रखता है. 1930 में 6 देशों द्वारा पहली बार खेले गए राष्ट्रमंडल खेलों को अगर छोड़ दिया जाए तो ऑस्ट्रेलिया ने हमेशा अपने खिलाड़ियों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर शीर्ष टीम में जगह बनाई है.

1930 से 2018 तक खेले गए 21 कॉमनवेल्थ खेलों में, प्रतियोगिता में भाग लेने वाले देशों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती रही, लेकिन इनमे से मात्र तीन ही देश राष्ट्रमंडल खेल के विजेता बन पाए हैं, जिसमे से यह ख़िताब ऑस्ट्रेलिया ने सर्वाधिक 13 बार अपने नाम किया है, वहीं कॉमनवेल्थ खेलों का जन्मदाता इंग्लैंड 7 बार कॉमनवेल्थ विजेता बना है. इन दोनों देशों के अलावा कनाडा ने भी एक बार इन खेलों के विजेता होने का सम्मान प्राप्त किया है.

हाल ही में हुए गोल्डकोस्ट में हुए कॉमनवेल्थ खेलों सहित, ऑस्ट्रेलिया अभी तक 5 बार इन खेलों की मेजबानी कर चुका है. अगर 1930 से अभी तक की पदक तालिका की बात करें तो कोई भी दूसरा देश ऑस्ट्रेलिया के आसपास भी नहीं फटकता हैं. ऑस्ट्रेलिया ने अब तक कुल 2416 पदक अपने नाम किए हैं, जबकि इंग्लैंड 2144 पदकों के साथ दूसरे पायदान पर है, जब हम तीसरे पायदान पर पहुँचते हैं तो हमे कनाडा दिखाई देता है, जो ऑस्ट्रेलिया से करीब हज़ार पदक पीछे है. ऑस्ट्रेलिया द्वारा जीते गए पदकों में से सर्वाधिक 932 स्वर्ण पदक हैं, वहीं 714 स्वर्ण लेकर इंग्लैंड ऑस्ट्रेलिया से पीछे है. अब तो आप समझ है गए होंगे कि क्यों ऑस्ट्रेलिया को कॉमनवेल्थ का किंग कहा जाता है.   

CWG2018 : देश के लिए गोल्ड लाने वाली मनु भाकर का हुआ अपमान

कॉमनवेल्थ सम्मेलन: भारत बड़ी जिम्मेदारी की तैयारी में

खेलों में भी पाकिस्तान पर भारी भारत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -