थायराइड के मरीजों के लिए खराब हैं ये 5 हेल्दी फूड्स, जानें आयुर्वेद से वजह डॉ.

थायराइड के मरीजों के लिए खराब हैं ये 5 हेल्दी फूड्स, जानें आयुर्वेद से वजह डॉ.
Share:

थायरॉइड, आपकी गर्दन में तितली के आकार की एक छोटी ग्रंथि, चयापचय, ऊर्जा उत्पादन और मूड सहित विभिन्न शारीरिक कार्यों को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। थायराइड असंतुलन वाले व्यक्तियों के लिए, स्वस्थ आहार बनाए रखना महत्वपूर्ण है। जबकि कुछ खाद्य पदार्थों को अक्सर पौष्टिक माना जाता है, आयुर्वेदिक चिकित्सकों की जानकारी के अनुसार, कुछ खाद्य पदार्थ थायराइड स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। आइए उन पांच स्वस्थ खाद्य पदार्थों के बारे में जानें जिन पर थायरॉयड रोगी पुनर्विचार करना चाहेंगे।

**1. पत्तेदार सब्जियां

सामान्य संदिग्ध: काले, ब्रोकोली, फूलगोभी, और ब्रसेल्स स्प्राउट्स

वे समस्याग्रस्त क्यों हैं:

हालाँकि ये सब्जियाँ कई स्वास्थ्य लाभों का दावा करती हैं, इनमें गोइट्रोजेन नामक यौगिक होते हैं। थायराइड हार्मोन उत्पादन के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व, आयोडीन के अवशोषण को रोककर गोइट्रोजेन थायराइड समारोह में हस्तक्षेप करते हैं। जिन व्यक्तियों को पहले से ही थायराइड की समस्या है, उनके लिए क्रूसिफेरस सब्जियों का अत्यधिक सेवन स्थिति को और खराब कर सकता है।

आयुर्वेदिक परिप्रेक्ष्य:

आयुर्वेद के अनुसार, इन सब्जियों को प्रकृति में "भारी" और "ठंडा" माना जाता है, जो संभावित रूप से वात और कफ दोष को बढ़ाते हैं, जिससे थायरॉयड ग्रंथि में असंतुलन हो जाता है। संयम महत्वपूर्ण है, और आयुर्वेदिक सिद्धांत उनके प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के लिए क्रूस वाली सब्जियों को हल्का पकाने या भाप में पकाने का सुझाव देते हैं।

**2. सोया उत्पाद

सामान्य अपराधी: टोफू, सोया दूध, एडामे, और सोया-आधारित खाद्य पदार्थ

वे समस्याग्रस्त क्यों हैं:

सोया में आइसोफ्लेवोन्स होता है, जो थायराइड हार्मोन उत्पादन और अवशोषण को बाधित कर सकता है। इसके अतिरिक्त, सोया को अक्सर आनुवंशिक रूप से संशोधित और भारी मात्रा में संसाधित किया जाता है, जिससे थायराइड स्वास्थ्य पर और अधिक प्रभाव पड़ता है। थायराइड की समस्या वाले व्यक्तियों को सोया उत्पादों का सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए, खासकर बड़ी मात्रा में।

आयुर्वेदिक परिप्रेक्ष्य:

आयुर्वेद में, सोया को पचाना मुश्किल माना जाता है और यह पित्त दोष को बढ़ा सकता है, जिससे थायरॉइड फ़ंक्शन में सूजन और असंतुलन हो सकता है। आयुर्वेदिक सिफारिशें अक्सर मूंग या दाल जैसे विकल्पों का समर्थन करती हैं, जो पाचन तंत्र के लिए आसान और थायराइड स्वास्थ्य के लिए सौम्य हैं।

**3. ग्लूटेन

सामान्य स्रोत: गेहूं, जौ, राई और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ

यह समस्याग्रस्त क्यों है:

ग्लूटेन, गेहूं जैसे अनाज में पाया जाने वाला प्रोटीन, अतिसंवेदनशील व्यक्तियों में ऑटोइम्यून प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकता है। हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस जैसी ऑटोइम्यून थायरॉयड स्थितियों वाले लोगों के लिए, ग्लूटेन का सेवन सूजन और थायरॉयड की शिथिलता को बढ़ा सकता है।

आयुर्वेदिक परिप्रेक्ष्य:

आयुर्वेद ऐसे आहार के महत्व पर जोर देता है जो पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करता है, क्योंकि पाचन में असंतुलन थायरॉयड फ़ंक्शन सहित समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकता है। ग्लूटेन, भारी और पचाने में कठिन होने के कारण, अग्नि (पाचन अग्नि) को परेशान कर सकता है और विषाक्त पदार्थों के निर्माण में योगदान कर सकता है, जिससे थायरॉयड असंतुलन बढ़ सकता है।

**4. प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ

उदाहरण: पैकेज्ड स्नैक्स, फास्ट फूड, मीठे व्यंजन

वे समस्याग्रस्त क्यों हैं:

प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ अक्सर परिष्कृत शर्करा, अस्वास्थ्यकर वसा, संरक्षक और कृत्रिम योजक से भरे होते हैं, जो सभी हार्मोनल संतुलन को बाधित कर सकते हैं और सूजन को बढ़ा सकते हैं। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स रक्त शर्करा के स्तर पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है, जो अप्रत्यक्ष रूप से थायराइड समारोह को प्रभावित करता है।

आयुर्वेदिक परिप्रेक्ष्य:

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण से, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ प्राण (जीवन शक्ति) से रहित होते हैं और तामसिक माने जाते हैं, जिसका अर्थ है कि वे दिमाग को सुस्त करते हैं और शारीरिक कार्यों को बाधित करते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थ दोषों के संतुलन को बिगाड़ सकते हैं, जिससे थायरॉयड असंतुलन सहित विभिन्न स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

**5. अत्यधिक कैफीन

स्रोत: कॉफी, चाय, ऊर्जा पेय

यह समस्याग्रस्त क्यों है:

जबकि मध्यम कैफीन का सेवन आम तौर पर अधिकांश व्यक्तियों के लिए सुरक्षित माना जाता है, अत्यधिक सेवन थायराइड समारोह में हस्तक्षेप कर सकता है। कैफीन थायराइड दवा के अवशोषण को रोक सकता है और कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ा सकता है, जो थायराइड हार्मोन के नाजुक संतुलन को बाधित कर सकता है।

आयुर्वेदिक परिप्रेक्ष्य:

आयुर्वेद कैफीन को एक उत्तेजक के रूप में पहचानता है जो वात और पित्त दोषों को बढ़ा सकता है, जिससे घबराहट, चिंता और अनिद्रा हो सकती है - ये सभी अप्रत्यक्ष रूप से थायरॉयड स्वास्थ्य पर प्रभाव डाल सकते हैं। आयुर्वेदिक विकल्पों में हर्बल चाय या अदरक जैसे मसालों वाला गर्म पानी शामिल है, जो पाचन और समग्र स्वास्थ्य में सहायता करता है।

निष्कर्ष में, हालांकि ये खाद्य पदार्थ कुछ लोगों के लिए पोषण संबंधी लाभ प्रदान कर सकते हैं, थायरॉइड असंतुलन वाले व्यक्तियों को इनके सेवन के प्रति सचेत रहना चाहिए। आयुर्वेदिक सिद्धांत संतुलित आहार की वकालत करते हैं जो पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करता है, शरीर को पोषण देता है और समग्र कल्याण को बढ़ावा देता है। किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ परामर्श करने से व्यक्तिगत आवश्यकताओं और संविधान के अनुरूप व्यक्तिगत मार्गदर्शन प्रदान किया जा सकता है।

एप्पल विजन प्रो से तुलना करने पर जकरबर्ग ने कहा- हमारा प्रोडक्ट बेहतर है...

अब एक साथ कई मैसेज पिन कर सकेंगे, व्हाट्सएप लेकर आया बेहद खास फीचर

यह बुलेट ट्रेन के एक डिब्बे की कीमत है

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -