अमूल 'द टेस्ट ऑफ इंडिया' अब हुआ इंटरनेशनल, अमेरिका के बाजार में शानदार आगाज़
अमूल 'द टेस्ट ऑफ इंडिया' अब हुआ इंटरनेशनल, अमेरिका के बाजार में शानदार आगाज़
Share:

अहमदाबाद: अपनी टैगलाइन 'टेस्ट ऑफ इंडिया' के लिए मशहूर प्रतिष्ठित डेयरी ब्रांड अमूल पहली बार संयुक्त राज्य अमेरिका में अपने ताजा उत्पादों की श्रृंखला पेश करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी शुरुआत करने के लिए तैयार है।

अमूल का संचालन करने वाले गुजरात सहकारी दूध विपणन महासंघ (जीसीएमएमएफ) के प्रबंध निदेशक जयेन मेहता ने रोमांचक विकास की घोषणा की। अमूल ने अमेरिकी बाजार में अपने ताजा दूध उत्पादों को लॉन्च करने के लिए अमेरिका में 108 साल पुरानी डेयरी सहकारी संस्था मिशिगन मिल्क प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन के साथ साझेदारी की है। यह घोषणा 20 मार्च को डेट्रॉइट में आयोजित एसोसिएशन की वार्षिक बैठक के दौरान की गई थी। यह पहली बार है कि अमूल की ताजा उत्पाद श्रृंखला भारत के बाहर उपलब्ध होगी, विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे बाजार में जहां बड़ी संख्या में भारतीय और एशियाई प्रवासी हैं, जैसा कि श्री मेहता ने प्रकाश डाला है।

यह कदम अमूल के स्वर्ण जयंती समारोह में अपनी उपस्थिति के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा निर्धारित आकांक्षाओं के अनुरूप, विश्व स्तर पर अपने ब्रांड का विस्तार करने के अमूल के दृष्टिकोण के अनुरूप है। अमूल की सफलता की कहानी इसकी उद्यमशीलता की भावना का प्रतीक है, जो इसे दुनिया भर में सबसे मजबूत डेयरी ब्रांडों में से एक बनाती है।

स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान, प्रधान मंत्री मोदी ने अमूल की यात्रा की सराहना की, इसकी तुलना 50 साल पहले गुजरात के किसानों द्वारा लगाए गए एक पौधे से की जो अब एक विशाल पेड़ बन गया है। 50 से अधिक देशों में निर्यात के साथ, अमूल के पास 18,000 दुग्ध सहकारी समितियों और 36,000 किसानों का एक विशाल नेटवर्क है, जो प्रतिदिन 3.5 करोड़ लीटर से अधिक दूध का प्रसंस्करण करता है।

भारत के डेयरी क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जिसमें ऑपरेशन फ्लड के लॉन्च के बाद से डेयरी सहकारी समितियां महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। आज, भारत विश्व स्तर पर दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है, जो दुनिया भर के कुल दूध उत्पादन में लगभग 21 प्रतिशत का योगदान देता है।

भारत के डेयरी क्षेत्र का परिवर्तन 1960 के दशक में शुरू हुआ, जो दूध की कमी वाले देश से आयात पर बहुत अधिक निर्भर था। 1965 में वर्गीस कुरियन के नेतृत्व में राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) की स्थापना एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुई। कुरियन, जिन्हें भारत में "श्वेत क्रांति के जनक" के रूप में जाना जाता है, ने ऑपरेशन फ्लड का नेतृत्व किया, जिसका उद्देश्य देश भर में डेयरी सहकारी समितियों के सफल 'आनंद पैटर्न' को दोहराना था।

इस पहल ने डेयरी परिदृश्य में क्रांति ला दी, जिससे देश भर में दूध सहकारी समितियों के संगठन को सुविधाजनक बनाया गया, जिससे शहरी केंद्रों में दूध की कुशल खरीद और वितरण सुनिश्चित हुआ।

बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों की हुई पहचान, इस्लामिक स्टेट के आतंकी हैं मुसावीर हुसैन और अब्दुल ताहा !

बिहार में बैकफुट पर कांग्रेस, RJD और लेफ्ट धड़ाधड़ घोषित कर रहे उम्मीदवार

मंत्री आतिशी का दावा, विरोध प्रदर्शन के दौरान आम आदमी पार्टी का मुख्यालय सील

 

रिलेटेड टॉपिक्स