छात्रा को लगा पीरियड का दर्द है, टॉयलेट गई तो हो गया बच्चे का जन्म

ब्रिटेन से हाल ही में एक अजीबोगरीब घटना सामने आई है जिसमे एक यूनिवर्सिटी की छात्रा पेट में दर्द की वजह से टॉयलेट गई तथा वहीं उसने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। प्राप्त एक रिपोर्ट के अनुसार, जेस डेविस नाम की लड़की ब्रिटेन के शहर ब्रिस्टल की रहने वाली है। साउथेम्प्टन यूनिवर्सिटी में इतिहास एवं राजनीति की विद्यार्थी डेविस ने जिस दिन बेटे को जन्म दिया, उस दिन उनका 20वां जन्मदिन भी था। उन्हें इस बात का जरा भी एहसास नहीं था कि वो गर्भवती हैं। जब उनके पेट में दर्द आरम्भ हुआ तो उन्होंने सोचा कि उन्हें पीरियड्स आरम्भ होने वाले हैं इसलिए तेज दर्द हो रहा है।

डेविस के पीरियड्स हमेशा से अनियमित रहे हैं जिसकी वजह से उन्होंने पीरियड्स मिस होने पर ध्यान नहीं दिया। न तो उनमें प्रेग्नेंसी के कोई लक्षण थे तथा न ही उनका बेबी बंप स्पष्ट नजर आ रहा था। 11 जून को जन्मा उनका बच्चा बेहद स्वस्थ था। जन्म के वक़्त उसका वजन तीन किलो था। डेविस ने अचानक मां बनने के अपने अनुभव पर बोला, 'जब उसका जन्म हुआ तो ये मेरे जीवन का सबसे बड़ा सदमा था। मुझे लगा कि मैं कोई ख्वाब देख रही हूं। मुझे पता नहीं चला कि क्या हो रहा है जब तक कि मेरे बच्चे ने रोना नहीं शुरू किया।'

आगे डेविस ने कहा, 'बच्चे के होने पर अचानक मुझे लगा कि मुझे बड़ा होने की आवश्यकता है। मुझे अचानक लगे इस झटके से उबरने और बच्चे के साथ तालमेल बिठाने में थोड़ा समय लगा। मगर अब मैं बेहद खुश हूं, मेरे पांव जमीन पर नहीं है। वो बेहद शांत रहने वाला बच्चा है। वार्ड में उसे सब एक शांत बच्चे के तौर पर जानते है।' रिपोर्ट के मुताबिक, डेविस ने खुलासा किया जब उन्हें तेज दर्द उठा तो उन्होंने सोचा कि ये उनके पीरियड्स का आरम्भ है। उन्हें चलने में मुश्किल हो रही थी तथा वो बिस्तर पर लेट नहीं पा रही थीं। उन्होंने बताया, 'मैं अगले दिन अपने जन्मदिन के लिए उस रात एक हाउस पार्टी करने वाली थी। मैं दर्द में थी इसलिए अच्छा महसूस करने के लिए मैंने नहाना ठीक समझा। मगर दर्द और भी बदतर होता गया।' डेविस ने बताया कि तेज दर्द में ही उन्हें लगा कि उन्हें टॉयलेट जाना है। वो जाकर वहां बैठ गई तथा उन्हें लगा कोई चीज है जिसे उन्हें पुश करना है। उन्होंने कहा, 'किसी भी समय मुझे नहीं लगा कि मैं एक बच्चे को जन्म दे रही हूं। मगर एक समय पर मुझे लगा कि कोई चीज है जो मेरे भीतर से निकल रही है। मुझे नहीं पता था कि वो क्या है। मैं बस इतना जानती था कि मुझे उसे बाहर निकालने की आवश्यकता है। उसे रोते सुनना एवं वास्तव में मेरे साथ जो हुआ, उसे महसूस करना बेहद वास्तविक था।' उस समय डेविस घर पर अकेली थीं तथा जब बच्चा हुआ तो समझ नहीं पा रही थी कि उन्हें क्या करना है। तब उन्होंने अपने सबसे अच्छे दोस्त लिव किंग को फोन किया। लिव को जब डेविस ने ये कहा कि उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया है तो उसे भरोसा नहीं हुआ। लिव ने सोचा कि डेविस पार्टी नहीं देना चाहती, इसलिए ये बहाना कर रही है। तब डेविस ने अपने नवजात बच्चे की एक फोटो लिव को भेजी तत्पश्चात, उसे भरोसा हुआ तथा एंबुलेंस को बुलाया गया। डेविस एवं उनके बच्चे को प्रिंसेस ऐनी हॉस्पिटल ले जाया गया। चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे का जन्म 35वें हफ्ते में हुआ है तथा मां-बेटे दोनों ठीक हैं। 

तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ़्तारी होते ही खतरे में आया लोकतंत्र, मुंबई प्रेस क्लब ने कहा- रिहा करो..

'जांच में नहीं कर रहीं सहयोग', तीस्ता सीतलवाड़ को अहमदाबाद कोर्ट में पेश कर बोली गुजरात ATS

पत्नी के साथ हनीमून पर गया था शख्स, अचानक मिल गई 'मिया खलीफा' और फिर जो हुआ...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -