तेरी याद में ज़रा आँखें भिगो लूँ

ेरी याद में ज़रा आँखें भिगो लूँ;
उदास रात की तन्हाई में सो लूँ;
अकेले ग़म का बोझ अब संभलता नहीं;
अगर तू मिल जाये तो तुझसे लिपट कर रो लूँ।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -